गुरुवार, 26 अक्तूबर 2017

.. शरद ऋतु आई







भारतवर्ष प्रकृति का सबसे प्रिय लीलाक्षेत्र है। यहाँ वर्षा, शरद, शिशिर, हेमंत, बसंत और ग्रीष्म ऋतुओं का अपना-अपना महत्व है। आदिकालीन कवियों से लेकर समसामयिक साहित्यकारों तक ने इन ऋतुओं का मनोरम चित्रण किया है। वे प्रकृति के साथ मनुष्य के मनोभावों को जोड़कर वर्णन करते हैं तथा लोक संस्कृति को भी अभिव्यक्त करते हैं। 

'संदेश रासक' में अद्दहमाण (अब्दुल रहमान) शरद ऋतु का वर्णन करते हुए कहते हैं कि वर्षा ऋतु के बाद शरद ऋतु आती है खुशियाँ लेकर। आकाश वर्षा के मेघों से मुक्त होकर निर्मल हो जाता है और वायु भी शांत। रात में तारे दिखने लगते हैं। दक्षिण दिशा में अगस्त्य नक्षत्र का चमक उठना वर्षा ऋतु के बीतने और शरद ऋतु के आने का सूचक है। शरद ऋतु में चाँदनी निर्मल लगती है। साँप भी पाताल में जाकर बैठ जाते हैं। ... 

शरद ऋतु में तालाब निर्मल जल से भर जाते हैं और सौ पंखुड़ियों वाले फूलों से सुशोभित हो जाते हैं। नदियाँ प्रवाहित होने लगती हैं। ग्रीष्म ऋतु के कारण सरोवरों की जो शोभा गायब हो गई थी वह शरद के आगमन से वापस लौटती है। ...

हंस कमल का रस पीकर रसमय होने लगते हैं। प्रफुल्लित होकर आवाज करने लगते हैं। पृथ्वी कास, कमल, हरसिंगार आदि अनेक प्रकार के फूलों से भर जाती है। नदियों के तट पक्षियों के मधुर कलरव से गुंजायमान हो उठते हैं और कीचड़ के बैठ जाने के कारण अब नदी के जल में प्रतिबिंब स्पष्ट दिखाई पड़ने लगता है। 

शरद ऋतु का राम कथा के साथ भी गहरा संबंध है। वाल्मीकि हों या तुलसी, सभी रामायणकारों ने यह उल्लेख किया है कि बाली वध के उपरांत राम ने वर्षा ऋतु एक ही जगह रहकर बिताई। इस दौरान सुग्रीव आमोद-प्रमोद में खोए रहे और शरद ऋतु आ गई। शरद के आगमन को सबसे पहले पवनपुत्र हनुमान और राम ने अनुभव किया। हनुमान ने देखा कि आकाश निर्मल हो गया है, अब न तो बादल ही दिखाई पड़ते हैं और न तो बिजली चमकती है। ऋतु परिवर्तन के इन चिह्नों को पहचानकर उन्होंने सुग्रीव को विलासिता की नींद छोड़कर सीता की खोज आरंभ करने के लिए चेताया। उनकी बात मानकर सुग्रीव ने नील को समस्त वानर सेना को तुरंत बुलाने की आज्ञा दी। दूसरी ओर राम सुग्रीव के प्रमाद के विषय में सोचकर निराश हो रहे थे। उन्हें सीता की चिंता खाए जा रही थी। शरद में परिलक्षित होने वाले परिवर्तनों की ओर ध्यान दिलाते हुए राम ने लक्ष्मण से कहा "हे लक्ष्मण! पृथ्वी को जलप्लावित कर देने वाले गरजते बादल अब शांत हो कर पलायन कर गए हैं। आकाश निर्मल हो गया है। चंद्रमा, नक्षत्र और सूर्य की प्रभा पर शरद ऋतु का प्रभाव स्पष्ट दृष्टिगोचर होने लगा है। हंस मानसरोवर की परित्याग कर पुनः लौट आए हैं और चक्रवातों के समान सरिता के रेतीले तटों पर क्रीड़ा कर रहे हैं। वर्षाकाल में मदोन्मत्त हो कर नृत्य करने वाले मोर अब उदास हो गए हैं। सरिता की कल-कल करती वेगमती गति अब मंद पड़ गई है मानो वे कह रही हैं कि चार दिन के यौवन पर मदोन्मत्त हो कर गर्व करना उचित नहीं है। सूर्य की किरणों ने मार्ग की कीचड़ को सुखा डाला है, इससे वे आवागमन और यातायात के लिए खुल गए हैं। राजाओं की यात्रा के दिन आ गए हैं, परंतु सुग्रीव ने न तो अब तक मेरी सुधि ली है और न जानकी की खोज कराने की कोई व्यवस्था ही कि है।"

शरद का यह प्रसंग तुलसी रामायण में भी अत्यंत मनोरम और मार्मिक रूप से वर्णित है। यहाँ हैम 'किष्किंधा कांड' के इस शरद ऋतु वर्णन को अर्थ सहित उद्धृत कर रहे हैं - 

शरद ऋतु वर्णन
चौपाई : 
*** बरषा बिगत सरद रितु आई। लछमन देखहु परम सुहाई॥ फूलें कास सकल महि छाई। जनु बरषाँ कृत प्रगट बुढ़ाई॥1॥ 
भावार्थ:- हे लक्ष्मण! देखो, वर्षा बीत गई और परम सुंदर शरद ऋतु आ गई। फूले हुए कास से सारी पृथ्वी छा गई। मानो वर्षा ऋतु ने (कास रूपी सफेद बालों के रूप में) अपना बुढ़ापा प्रकट किया है॥1॥ 

*** उदित अगस्ति पंथ जल सोषा। जिमि लोभहिं सोषइ संतोषा॥ सरिता सर निर्मल जल सोहा। संत हृदय जस गत मद मोहा॥2॥ 
भावार्थ:- अगस्त्य के तारे ने उदय होकर मार्ग के जल को सोख लिया, जैसे संतोष लोभ को सोख लेता है। नदियों और तालाबों का निर्मल जल ऐसी शोभा पा रहा है जैसे मद और मोह से रहित संतों का हृदय!॥2॥ 

*** रस रस सूख सरित सर पानी। ममता त्याग करहिं जिमि ग्यानी॥ जानि सरद रितु खंजन आए। पाइ समय जिमि सुकृत सुहाए॥3॥ 
भावार्थ:- नदी और तालाबों का जल धीरे-धीरे सूख रहा है। जैसे ज्ञानी (विवेकी) पुरुष ममता का त्याग करते हैं। शरद ऋतु जानकर खंजन पक्षी आ गए। जैसे समय पाकर सुंदर सुकृत आ सकते हैं। (पुण्य प्रकट हो जाते हैं)॥3॥ 

*** पंक न रेनु सोह असि धरनी। नीति निपुन नृप कै जसि करनी॥ जल संकोच बिकल भइँ मीना। अबुध कुटुंबी जिमि धनहीना॥4॥ 
भावार्थ:- न कीचड़ है न धूल? इससे धरती (निर्मल होकर) ऐसी शोभा दे रही है जैसे नीतिनिपुण राजा की करनी! जल के कम हो जाने से मछलियाँ व्याकुल हो रही हैं, जैसे मूर्ख (विवेक शून्य) कुटुम्बी (गृहस्थ) धन के बिना व्याकुल होता है॥4॥ 

*** बिनु घन निर्मल सोह अकासा। हरिजन इव परिहरि सब आसा॥ कहुँ कहुँ बृष्टि सारदी थोरी। कोउ एक भाव भगति जिमि मोरी॥5॥ 
भावार्थ:-बिना बादलों का निर्मल आकाश ऐसा शोभित हो रहा है जैसे भगवद्भक्त सब आशाओं को छोड़कर सुशोभित होते हैं। कहीं-कहीं (विरले ही स्थानों में) शरद् ऋतु की थोड़ी-थोड़ी वर्षा हो रही है। जैसे कोई विरले ही मेरी भक्ति पाते हैं॥5॥ 

दोहा : 
*** चले हरषि तजि नगर नृप तापस बनिक भिखारि। जिमि हरिभगति पाइ श्रम तजहिं आश्रमी चारि॥16॥ 
भावार्थ:-(शरद् ऋतु पाकर) राजा, तपस्वी, व्यापारी और भिखारी (क्रमशः विजय, तप, व्यापार और भिक्षा के लिए) हर्षित होकर नगर छोड़कर चले। जैसे श्री हरि की भक्ति पाकर चारों आश्रम वाले (नाना प्रकार के साधन रूपी) श्रमों को त्याग देते हैं॥16॥ 

चौपाई : 
*** सुखी मीन जे नीर अगाधा। जिमि हरि सरन न एकऊ बाधा॥ फूलें कमल सोह सर कैसा। निर्गुन ब्रह्म सगुन भएँ जैसा॥1॥ 
भावार्थ:-जो मछलियाँ अथाह जल में हैं, वे सुखी हैं, जैसे श्री हरि के शरण में चले जाने पर एक भी बाधा नहीं रहती। कमलों के फूलने से तालाब कैसी शोभा दे रहा है, जैसे निर्गुण ब्रह्म सगुण होने पर शोभित होता है॥1॥ 

*** गुंजत मधुकर मुखर अनूपा। सुंदर खग रव नाना रूपा॥ चक्रबाक मन दुख निसि पेखी। जिमि दुर्जन पर संपति देखी॥2॥ 
भावार्थ:-भौंरे अनुपम शब्द करते हुए गूँज रहे हैं तथा पक्षियों के नाना प्रकार के सुंदर शब्द हो रहे हैं। रात्रि देखकर चकवे के मन में वैसे ही दुःख हो रहा है, जैसे दूसरे की संपत्ति देखकर दुष्ट को होता है॥2॥ 

*** चातक रटत तृषा अति ओही। जिमि सुख लहइ न संकर द्रोही॥ सरदातप निसि ससि अपहरई। संत दरस जिमि पातक टरई॥3॥ 
भावार्थ:-पपीहा रट लगाए है, उसको बड़ी प्यास है, जैसे श्री शंकरजी का द्रोही सुख नहीं पाता (सुख के लिए झीखता रहता है) शरद् ऋतु के ताप को रात के समय चंद्रमा हर लेता है, जैसे संतों के दर्शन से पाप दूर हो जाते हैं॥3॥ 

*** देखि इंदु चकोर समुदाई। चितवहिं जिमि हरिजन हरि पाई॥ मसक दंस बीते हिम त्रासा। जिमि द्विज द्रोह किएँ कुल नासा॥4॥ 
भावार्थ:-चकोरों के समुदाय चंद्रमा को देखकर इस प्रकार टकटकी लगाए हैं जैसे भगवद्भक्त भगवान्‌ को पाकर उनके (निर्निमेष नेत्रों से) दर्शन करते हैं। मच्छर और डाँस जाड़े के डर से इस प्रकार नष्ट हो गए जैसे ब्राह्मण के साथ वैर करने से कुल का नाश हो जाता है॥4॥ 

दोहा : 
*** भूमि जीव संकुल रहे गए सरद रितु पाइ। सदगुर मिलें जाहिं जिमि संसय भ्रम समुदाइ॥17॥ 
भावार्थ:-(वर्षा ऋतु के कारण) पृथ्वी पर जो जीव भर गए थे, वे शरद् ऋतु को पाकर वैसे ही नष्ट हो गए जैसे सद्गुरु के मिल जाने पर संदेह और भ्रम के समूह नष्ट हो जाते हैं॥17॥

रविवार, 13 अगस्त 2017

वृद्धावस्था विमर्श और हिंदी कहानी (शुभाशंसा)

वृद्धावस्था विमर्श और हिंदी कहानी
शिवकुमार  राजौरिया
2017
अद्वैत प्रकाशन,  नई दिल्ली
ISBN : 978-93-82554-87-5
रु. 595, पृष्ठ 295

जब मैं था नवयुवक, वृद्ध शिक्षक थे मेरे,
भूतकाल की कथा गूढ़ बतलाते थे वे.
मैं पढ़ने को नहीं, वृद्ध होने जाता था,
आग बुझा कर शीतल मुझे बनाते थे वे.
पर, अब मैं बूढ़ा हूँ, शिक्षक नौजवान हैं,
उन्हें देख निज सोयी वह्नि जगाता हूँ मैं.
भूत नहीं, अब परिचय पाने को भविष्य का
यौवन के विद्या-मंदिर में जाता हूँ मैं.
                                  (राष्ट्रकवि डॉ. रामधारी सिंह ‘दिनकर’)

काल की गति क्षिप्र है. वह इतनी शीघ्रता से चला जाता है कि उस पर किसी की दृष्टि नहीं जाती. एक नवजात शिशु कब अपनी शैशवावस्था छोड़कर युवावस्था में पहुँचा और कब वृद्धावस्था में, यह पता ही नहीं चलता. वृद्धावस्था से कोई बच नहीं सकता. यह जीवन का सत्य है लेकिन मनुष्य वृद्धावस्था की कल्पना मात्र से ही डर जाता है, निराश हो जाता है और सब चीजों से कटा हुआ महसूस करता है. कहा जाए तो वह केंद्र से परिधि की ओर चला जाता है. उपेक्षित हो जाता है; समाज से, परिवार से और यहाँ तक कि अपने आप से. लेकिन वार्धक्य कोई अभिशाप नहीं, बल्कि वह जीवन की चरम स्थिति है. अर्थात जीवन के विकास की चरमावस्था है वृद्धावस्था. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी का कथन है कि ‘इस अवस्था में लोगों के सभी भाव रस के रूप में परिणत होकर आनंदमय हो जाते हैं.’ युवावस्था में प्रायः आडंबरप्रियता और प्रदर्शनप्रियता को देखा जा सकता है लेकिन वृद्धावस्था में ये सब नहीं रह जाते. वृद्धावस्था का सच्चा आनंद आत्मसंतोष है. जिन्हें भविष्य की कोई चिंता नहीं रहती वे ही वृद्ध हैं. कहने का आशय है कि 75-80 वर्ष के होने पर भी जिस व्यक्ति को भविष्य की चिंता होती है वह युवा ही है, क्योंकि उसे कार्यों को पूर्ण करने की चिंता जीवन में कुछ और बेहतर करने के लिए प्रेरित करेगी. जैसे-जैसे मनुष्य अपने आपको वृद्ध मानने लगता है, वह कमजोर महसूस करने लगता है तथा सहानुभूति अर्जित करने की इच्छा रखता है. धीरे-धीरे वह परिधि की ओर जाने के लिए विवश हो जाता है. प्रायः यह देखा जाता है कि जब तक व्यक्ति परिवार के लिए कमाने का यंत्र है तब तक उसकी चलती है लेकिन जैसे ही उसका शरीर उसका साथ देना छोड़ देता है वैसे ही परिवार के सदस्यों के लिए वह एक ‘बेकार चीज’ बन जाता है. ऐसे में उसका अस्तित्व भी खतरे में पड़ जाता है. ऐसी स्थिति में उनका कुंठित होना स्वाभाविक है. 

भारतीय परंपरा के परिप्रेक्ष्य में वृद्धों की स्थिति दयनीय नहीं कही जा सकती. यहाँ बड़ों का मान-सम्मान किया जाता रहा है. कहा भी गया है, “अभिवादन शीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविनः / चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशो बलम्”. अर्थात प्रतिदिन बुजुर्गों को प्रणाम करने और उनकी सेवा करने वाले व्यक्ति की आयु, विद्या, कीर्ति और शक्ति की वृद्धि होती है. लेकिन आजकल यहाँ भी स्थितियाँ बदल रही हैं. मूल्य बदल रहे हैं. परिवार का विघटन हो रहा है. वार्धक्य समस्या बनने लगा है. जैसे जैसे मनुष्य बुढ़ापे की ओर चलता है वैसे-वैसे अकेलापन, संत्रास, भय और असुरक्षा आदि उसको घेर लेते हैं. दरअसल उसे सुरक्षा और स्नेह की आवश्यकता होती है. बदलती परिस्थितियों में, वृद्धों के मनोविज्ञान को समझना भर काफी नहीं है बल्कि आज के परिप्रेक्ष्य में उनके पुनर्वास का प्रश्न प्रबल हो उठा है. 

उत्तरआधुनिक समय में लोगों की दृष्टि हाशियाकृत समुदायों पर पड़ी है तो स्त्री, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक के साथ-साथ अब वृद्धों पर भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है. परिणामस्वरूप वृद्धावस्था विमर्श उभरकर सामने आया है. लेकिन सिमोन द बुआ (9 जनवरी, 1908 – 14 अप्रैल, 1986) ने 1950 से ही वृद्धावस्था पर चिंतन-मनन करना शुरू कर दिया था. 1970 में प्रकाशित उनकी शोधपूर्ण कृति ‘ला विएलेस्से’ (फ्रेंच) इसका प्रमाण है. ‘ला विएलेस्से’ का अंग्रेजी अनुवाद ‘ओल्ड एज’ (पैट्रिक ओ ब्रेन) 1977 में प्रकाशित हुआ. सिमोन की भविष्योन्मुखी विश्वदृष्टि के कारण यह कृति वृद्धावस्था विमर्श की गीता बन गई. हिंदी में चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने इस कृति का सार-संक्षेप ‘’वृद्धावस्था विमर्श’’ शीर्षक से प्रस्तुत किया है.

यों तो इसमें संदेह नहीं कि समाज, साहित्य और संस्कृति में वृद्ध सदा उपस्थित रहे हैं लेकिन उनकी यह उपस्थिति केंद्र की अपेक्षा परिधि पर अधिक रही है. केंद्र से अपदस्थ होते ही व्यक्ति समाज की उपेक्षा का पात्र हो जाता है. यहाँ तक कि बहुत बार तो उसे अपना जीवन अभिशाप सा प्रतीत होने लगता है. परिधि पर धकेले गए (हाशियाकृत) एक समुदाय के रूप में वृद्ध समुदाय दुनिया का बहुत बड़ा उपेक्षित जन समुदाय है. वृद्धावस्था विमर्श इस उपेक्षित समुदाय की दृष्टि से, अथवा वृद्धावस्था को केंद्र में रखते हुए, समाज, साहित्य और संस्कृति की नई व्याख्या करने वाला विमर्श है. जैसा कि पहले संकेत किया जा चुका है, वृद्धों और वृद्धावस्था पर हमारे यहाँ चिंतन की बड़ी पुरानी परंपरा है तो सही; लेकिन उस चिंतन परम्परा में वृद्धों को समाज में पुनर्वासित करने के स्थान पर वन की ओर प्रस्थान करने (वानप्रस्थ) और सब कुछ त्याग देने (संन्यास) के आदेश निहित हैं. आज का वृद्धावस्था विमर्श इससे आगे बढ़कर वृद्धों को समाज में पुनर्वासित देखना चाहता है. हिंदी में इस दिशा में ‘वागर्थ’ ने दिसंबर 1999 में प्रकाशित वृद्धावस्था विशेषांक के माध्यम से गंभीर विमर्श की शुरुआत की और यह संकेत दिया कि इक्कीसवीं शताब्दी के विश्व के समक्ष वृद्धावस्था संबंधी समस्याएँ बड़ी चुनौती प्रस्तुत करनेवाली हैं. इस वैचारिक पीठिका पर हिंदी कहानी साहित्य में वृद्धावस्था के चित्रण का अनुसंधान और विश्लेषण ही डॉ. शिवकुमार राजौरिया के प्रस्तुत ग्रंथ “वृद्धावस्था विमर्श और हिंदी कहानी” का लक्ष्य है. भूमंडलीकृत विश्व द्वारा अनुभव की जा रही वृद्धावस्था विषयक विकट समस्या से संबंधित होने के कारण यह शोधपूर्ण ग्रंथ साहित्य के साथ-साथ समाज के संदर्भ में भी अत्यंत प्रासंगिक है.

इस ग्रंथ की व्यापकता का अनुमान इस तथ्य से सहज ही किया जा सकता है कि डॉ. शिवकुमार राजौरिया ने इसकी विवेच्य सामग्री के रूप में हिंदी कहानी साहित्य से उन कहानियों को चुनकर ग्रहण किया गया है जिनमें वृद्धावस्था को मुख्य विषय अथवा कथ्य के रूप में स्वीकार किया गया है. उन्होंने बताया है कि इन कहानियों में - बेटोंवाली विधवा (प्रेमचंद), बूढ़ी काकी, (प्रेमचंद), अलग्योझा (प्रेमचंद), माँ (प्रेमचंद), मंत्र, (प्रेमचंद), स्वामिनी (प्रेमचंद), विध्वंस (प्रेमचंद), सुभागी (प्रेमचंद), गुदड़ी में लाल (जयशंकर प्रसाद), ममता (जयशंकर प्रसाद), बेड़ी (जयशंकर प्रसाद), चीफ की दावत (भीष्म साहनी), यादें (भीष्म साहनी), चचा मंगलसेन (भीष्म साहनी), खून का रिश्ता (भीष्म साहनी), पागल है (यशपाल), समय (यशपाल), दुःख का अधिकार (यशपाल), कौन जाने (यशपाल), समय (यशपाल), कैलाशी नानी (सुभद्रा कुमारी चौहान), वसीयत (भगवती चरण वर्मा), परमात्मा का कुत्ता (मोहन राकेश), आजादी (ममता कालिया), उधार की हवा (मृदुला गर्ग ), बांसफल (मृदुला गर्ग), छत पर दस्तक (मृदुला गर्ग), उर्फ सैम (मृदुला गर्ग), मजबूरी (मन्नू भंडारी), मास्टर साहब (चंद्रगुप्त विद्यालंकार), पादुका पूजन (प्रतिभा राय), सीढ़ी (सूर्यबाला), सौगात (सूर्यबाला), दादी और रिमोट (सूर्यबाला), दादी का खजाना (सूर्यबाला), दादी माँ (शिवप्रसाद सिंह), दादी (शिवानी), माँ (ए.असफल), शापमुक्ति (रमेश उपाध्याय), जींस (मनोज कुमार पाण्डेय), ताई (विश्वंभरनाथ कौशिक), हरिहर काका (मिथिलेश्वर), वापसी (उषा प्रियंवदा), उतनी दूर (राज़ी सेठ), उसका आकाश (राज़ी सेठ), साधें (गोविन्द मिश्र), गेंद (चित्रा मुदगल), फाइल दाखिल दफ्तर (गिरिराज किशोर), अपना घर (रामधारी सिंह दिवाकर), बुढऊ का आधुनिकीकरण (गिरीश अस्थाना), हाँच (सुनील सिंह), उसका जाना (दिनेश चंद्र झा), फाग पिया संग (चन्द्रिका ठाकुर देशदीप), समय (सिद्धेश), यक्ष प्रश्न (दयानन्द पांडेय), बांधों न नाव इस ठांव बंधु (उर्मिला शिरीष), साँझ का परिंदा (आदर्श मदान), आँख मिचौनी (अमृतराय), बूढ़ा ज्वालामुखी (गिरिराज शरण अग्रवाल), घेरे (गोविन्द मिश्र), पिता (ज्ञानरंजन), सीमेण्ट में उगी घास (दयानन्द अनन्त), शटल (नरेन्द्र कोहली), तिनकों का घोंसला (प्रतिमा वर्मा), ग्राम माता (बाबू सिंह चौहान), दादी का बटुआ (मंजुल भगत), मोहताज (रामकुमार भ्रमर), अनाधिकृत स्वप्न (सत्यराज), पराजित (सुनील कौशिक), घुन (सुरेश उनियाल), मौत के लिए एक अपील (साजिद रशीद), मुट्ठी भर धूल (मुरारी शर्मा), कितने दीनू कितने दीनानाथ (राजेश झरपुरे), अम्मा (डॉ.श्रीमती कमल कुमार), नानी (संजीव दत्त शर्मा), बस कब चलेगी(संजय विद्रोही), बोनसाई (योगिता यादव), अपूर्णा (अलका सिन्हा), बाबूजी (डॉ.शिबन कृष्ण रैणा), माचिस की डिबिया (चन्द्रमौलेश्वर प्रसाद) और खिड़की (राजेन्द्र कृष्ण) तथा माई (हरि भटनागर) - सम्मिलित हैं. 

विद्वान लेखक ने सबसे पहले तो वृद्धावस्था विमर्श की सैद्धांतिक पीठिका तैयार की है और वृद्धों की मानसिकता पर इस संदर्भ में विचार किया है कि वृद्धावस्था में व्यक्ति के मनोजगत में विभिन्न दैहिक , सामाजिक, आर्थिक और नैतिक कारणों से परिवर्तन घटित होते हैं. यहाँ वृद्धावस्था में परनिर्भरता से उत्पन्न कुंठाओं, और मूल्य परिवर्तन का विवेचन करते हुए वर्तमान विश्व के समक्ष उपस्थित वृद्धों के पुनर्वास की समस्या का भी विश्लेषण किया गया है. इसके बाद उन्होंने आधुनिकीकरण, भूमंडलीकरण और सामाजिक परिवर्तन के साथ भारतीय समाज में वृद्धों की बदलती हुई स्थिति तथा वृद्धों की सामाजिक समस्याओं का विवेचन किया है. इतनी विस्तृत पृष्ठभूमि निर्मित करने के बाद लेखक ने हिंदी कहानियों का वृद्धावस्था विमर्श के कोण से नया पाठ, जिसे वृद्ध-पाठ कहा जा सकता है, तैयार किया है. इसके लिए उन्होंने चयित कहानियों में अभिव्यक्त वृद्धों की मानसिकता का पहले तो वृद्धावस्था जनित असुरक्षा एवं उससे जुड़े मनोभावों -आशंका और अनिश्चितता - के चित्रण के संदर्भ में सोदाहरण विश्लेषण किया है. फिर एकाकीपन, स्मृति और मृत्युबोध के संदर्भ में वृद्धावस्था के चित्रण की प्रामाणिकता की सूक्ष्म और गहन पड़ताल की है.

डॉ. राजौरिया के इस ग्रंथ का एक और सर्वथा मौलिक योगदान वृद्धों की भाषा का सामाजिक संदर्भ को खोज निकालने से सम्बंधित है. उन्होंने वृद्धों की भाषा के संदर्भ में चयित कहानियों का पाठ विश्लेषण यह मान कर किया है कि समाजभाषिक दृष्टि से व्यक्ति का भाषा व्यवहार की उसकी सामाजिक स्थिति पर निर्भर रहता है. लेखक ने जहाँ एक ओर यह प्रतिपादित किया है कि वृद्धजन का भाषिक आचरण उनके अनुभव और आयु से जुड़े बड़प्पन को प्रकट करता है, वहीं यह भी सिद्ध किया है कि कहानीकारों ने वृद्ध पात्रों के संवादों के गठन में घर-परिवार और समाज में उनके स्थान, पद और रुतबे के साथ-साथ उनकी हाशियाकृत एवं उपेक्षापूर्ण स्थिति का ध्यान रखते हुए ऐसी भाषा का प्रयोग किया है जो वृद्धों की सामाजिक-मानसिक दशा का प्रतिबिंब है. वार्ता आरंभ, वार्ता परिवर्तन, प्रश्न, आदेश और विनम्रता से जुड़े वृद्धों के संवादों का सामाजिक स्थिति के संदर्भ में ऐसा विश्लेषण अन्यत्र दुर्लभ है. मेरी समझ में इसका कारण यह है कि डॉ. शिवकुमार राजौरिया ने यह समस्त कार्य डॉ. ऋषभ देव शर्मा जी की देखरेख में उनसे वृद्धावस्था विमर्श और समाजभाषाविज्ञान की दीक्षा लेकर संपन्न किया है.

यहाँ एक और बात की चर्चा मुझे ज़रूरी लग रही है. वह यह कि इस ग्रंथ की तैयारी के लिए कहानी साहित्य का अध्ययन-मनन करते- करते शिवकुमार राजौरिया स्वयं कीटभृंगी न्याय से कहानीकार बन गए. दरअसल डॉ. ऋषभदेव शर्मा प्रायः उन्हें प्रेरित करते रहते थे - इतनी कहानियाँ पढ रहे हो, कुछ अपना भी लिखो ना! - और एक दिन कुलबुलाते बीज में अंकुर निकल आया. एक परिचित वृद्ध को केंद्र में रखकर उन्होंने एक कहानी लिख दी - ‘बूढी हड्डियाँ’. तनिक नोक पलक संवारकर कहानी छपने के लिए भिजवा दी गई. हफ्ते भर में ‘स्वतंत्र वार्ता’ में छप भी गई. बस फिर क्या था लेखक की धड़क खुल गई और इस ग्रंथ के साथ-साथ उनका कहानी लेखन भी चल निकला कोई तीस कहानियाँ तो हो ही गई होंगी!- अधिकतर वृद्धावस्था विमर्श पर केंद्रित! स्रवंति, दक्षिण समाचार, हिंदी मिलाप, स्वतंत्र वार्ता और श्रीमिलिंद में लगातार छपती भी रहीं. संग्रह भी आ गया –‘ऑटोग्राफ एवं अन्य कहानियाँ’ (2012 : चेतक बुक्स, 1075, फ्लैट संख्या 3, बी विंग, येवले म्हस्के अपार्टमेंट ,सदाशिव पेठ, पूना-30) जिसे सुधी पाठकों और विद्वानों का भरपूर स्नेह मिला. 

मुझे पूर्ण विश्वास है कि डॉ. शिवकुमार राजौरिया के इस ग्रंथ को भी हिंदी जगत में स्नेह और सम्मान मिलेगा. मैं उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामना व्यक्त करती हूँ. साथ ही, इस अत्यंत मौलिक, प्रासंगिक, महत्वपूर्ण, पठनीय एवं संग्रहणीय ग्रंथ को पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रकाशक को भी बधाई देना चाहती हूँ. 

अनंत शुभेच्छाओं सहित,

30 अप्रैल, 2017                                                                                                         – गुर्रमकोंडा नीरजा 
                                                                                                                                              प्राध्यापक 
                                                                                                                  उच्च शिक्षा और शोध संस्थान 
                                                                                                                 दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा 
                                                                                                               खैरताबाद, हैदराबाद – 500004.
                                                                                                                 neerajagkonda@gmail.com

समकालीन सरोकार और साहित्य (भूमिका)

समकालीन सरोकार और साहित्य 
संपादक : ऋषभ देव शर्मा और गुर्रमकोंडा नीरजा
अतुल्य पब्लिकेशंस, सी -5 /एफ - 2, ईस्ट ज्योति नगर, दिल्ली - 110 093
प्रथम संस्करण : 2017
मूल्य : रु 500
ISBN  : 978-93-82553-66-3  

दक्षिण भारत में किए जा रहे हिंदी भाषा और साहित्य विषयक शोध लेखन की एक छवि प्रस्तुत करने के लिए पिछले दो वर्षों में हमने दो पुस्तकें ‘संकल्पना’ (2015) तथा ‘अन्वेषी’ (2016) हिंदी पाठकों को समर्पित की हैं। ‘समकालीन सरोकार और साहित्य’ इस शृंखला की तीसरी कड़ी है। विशेष रूप से शोधार्थियों की माँग पर इसमें शोध विमर्श संबंधी व्यावहारिक जानकारियाँ शामिल की गई हैं। साथ ही इसका क्षेत्र अब दक्षिण भारत तक सीमित नहीं है। 

हिंदी साहित्य और भाषा विषयक अनुसंधान के क्षेत्र में शोध पत्र और शोधप्रबंध के लेखन में मानकता की दृष्टि से प्रायः बड़ी अराजकता देखने को मिलती है। इसका एक बड़ा कारण शोध लेखन के संबंध में स्वीकृत अंतरराष्ट्रीय प्रारूपों के प्रति उपेक्षा भाव है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए शोध संबंधी मानक लेखन के लिए व्यापक रूप से स्वीकृत दो प्रारूपों की हिंदी के संदर्भ में प्रस्तुति इस पुस्तक को विशिष्ट बनाती है। ए.पी.ए. और एम.एल.ए. प्रणालियों की यह जानकारी हिंदी में पहली बार इस रूप में प्रस्तुत की जा रही है जो शोधार्थियों और शोध निर्देशकों के लिए समान रूप से उपयोगी है। इसके अलावा हिंदी में शोध की संभावनाओं एवं सकारात्मक मनोविज्ञान जैसी नई दिशाओं का उद्घाटन करने वाली सामग्री भी अत्यंत उपयोगी है। 

यह पुस्तक समसामयिक अद्यतन हिंदी शोध में लोकप्रियता प्राप्त कर रहे दलित एवं स्त्री आदि हाशिया विमर्शों के आलोक में कविता, उपन्यास और कहानी जैसी विधाओं का पुनर्पाठ तो प्रस्तुत करती ही है, साथ ही भाषा विमर्श और मीडिया विमर्श के नए आयामों को भी प्रस्तुत करती है। 

विश्वास है कि भाषा और साहित्य संबंधी अनुसंधानकर्ताओं और सुधी पाठकों को हमारा यह प्रयास पसंद आएगा। 

पुस्तक के सुरुचिपूर्ण मुद्रण एवं प्रकाशन के लिए हम अतुल्य पब्लिकेशन्स के श्री अतुल माहेश्वरी और श्री आदित्य माहेश्वरी के प्रति विशेष रूप से आभारी हैं। इस पूरी योजना में सहयोग के लिए श्री वी. कृष्णाराव का हार्दिक धन्यवाद।

1 मई, 2017                                                                                                                       - ऋषभ देव शर्मा 

                                                                                                                                        गुर्रमकोंडा नीरजा 

शनिवार, 3 जून 2017

आत्मकथा के बहाने छत्तीसगढ़ की अंचल कथा

मुझे कुछ कहना है – III (2017)/ डॉ. रामनिवास साहू/ गाजियाबाद : उद्योगनगर प्रकाशन/ पृष्ठ 136/ मूल्य : रु. 200/-
हिंदी गद्य साहित्य में आत्मकथा लेखन की परंपरा अत्यंत समृद्ध है. महापुरुषों, साधु-महात्माओं, समाज सुधारकों, राजनेताओं और साहित्यकारों ने अपने बाहरी और भीतरी जीवन संघर्ष को आत्मकथाओं के माध्यम से इस तरह व्यक्त किया है कि पाठक को उनसे प्रेरणा प्राप्त होती है. आत्मकथाओं के अगले वर्ग में वे रचनाएँ आती हैं जिनमें निज के बहाने लेखकों ने अपने समुदाय के कष्टों और सच्चाइयों का उत्तम पुरुष शैली में वर्णन किया है और दलित विमर्श तथा स्त्री विमर्श को धार देने में कामयाबी हासिल की है. इसी की अगली कड़ी के रूप में आंचलिक विमर्श को एक नया आयाम डॉ. रामनिवास साहू ‘मुझे कुछ कहना है’ शीर्षक अपनी बहुखंडीय आत्मकथा के माध्यम से देने का प्रयास कर रहे हैं. 

यहाँ ठहर कर यह जान लेना जरूरी है कि – ये डॉ. रामनिवास साहू हैं कौन? उनका जन्म वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा जिला के वनवासी अंचल कोरबी में 21 फरवरी, 1954 को हुआ. उनके पूर्वज दो पीढ़ी पहले ही इस वनांचल में आकर बसे थे. कोरबी में जन्मे इस बालक ने किन विपरीत परिस्थितियों में किस-किस तरह के पापड़ बेलते हुए कैसे-कैसे उच्च शिक्षा प्राप्त करने की अपनी जिद पूरी करके दिखाई और कैसे भाषाविज्ञान में एमए करके छत्तीसगढ़ की मुंडा भाषाओं के सर्वेक्षण जैसे विषय पर पीएचडी हासिल की, यह भी इस आत्मकथा का हिस्सा है. साथ ही एक छोटे ग्रामीण दुकानदार का बेटा कैसे अंधविश्वास, कलह और भितरघात से ग्रसित परिवेश से निकलकर केंद्रीय हिंदी संस्थान के क्षेत्रीय निदेशक पद तक पहुँचा, इसकी गाथा भी निरंतर परिश्रम और मूल्यनिष्ठा के प्रति आस्था जगाने वाली गाथा है. 

यों तो डॉ. रामनिवास साहू अपने विद्यार्थी काल से ही कुछ न कुछ लिखते रहे हैं. वनवासी और बिगुल शीर्षक से उनकी दो पुस्तकें क्रमशः 2002 और 2003 में आ चुकी हैं तथा भाषाविज्ञान और पत्रकारिता पर भी उनकी चार किताबें आई हैं; लेकिन ‘मुझे कुछ कहना है’ उनके लेखन की नई पारी का प्रतीक है. इसके दो खंड (पहला और तीसरा) 2017 की प्रथम छमाही में प्रकाशित हुए हैं. लेखक की घोषणा के अनुसार आगे और तीन खंड आने हैं. 

इस औपन्यासिक आत्मकथा के तीसरे खंड की भूमिका में लेखक ने बताया है कि “मेरा जीवनवृत्त बहुत ही सुंदर, सुदृढ़ तथा स्वर्णमय है. यह उस गाँव के लिए अत्यंत गौरवमय है जिससे प्रेरित होकर हर कोई देश को, राष्ट्र को समझना चाहेगा तथा राष्ट्रीय जीवन की मुख्यधारा में आने के लिए स्वतः प्रेरित होकर सोपान-दर-सोपान कदम बढ़ाना चाहेगा.” इसका अर्थ यह है कि लेखक अपनी आत्मकथा को छत्तीसगढ़ के उस अंचल की नई पीढ़ी के लिए प्रेरणास्पद मानता है जिसकी जमीन से वह स्वयं उगा है. इस खंड में उनके सोलहवें वर्ष की कथाएँ हैं.

किसी व्यक्ति के जीवन में सोलहवाँ वर्ष बड़ा महत्वपूर्ण होता है. किशोरावस्था के सपने इसी उम्र में आँखों में अंगडाई लेते हैं और यही उम्र यह तय करती है कि वह व्यक्ति किस दिशा में जाएगा. यहाँ कथानायक भविष्य के सपने बुन रहा है. इन सपनों में अब फ़िल्मी नायक-नायिका आने लगे हैं. हर महीने फिल्म देखने का नियम जैसा बन गया है. इस फिल्म-प्रेम ने कथानायक के मन में सामाजिक सवाल खड़े किए और बोध का निर्माण करने में बड़ी भूमिका निभाई. गाँव की प्रभातफेरी और रामचरितमानस के पाठ जैसी चीजों ने उसके इस बोध को राष्ट्रीयता के साथ जोड़ा. कॉलेज जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों ने भी कई तरह के मानसिक द्वंद्व खड़े किए, लेकिन भटकने की सारी सुविधाओं के बावजूद कथानायक की दृष्टि से शिक्षा रूपी मछली की आँख कभी ओझल नहीं हो सकी. आचार-विचार की सहजता का संस्कार उसे अपने माता-पिता और पालनहारी पिसौदहीन बड़कादाई से मिला था जिसे श्रीराम शर्मा आचार्य के जीवन दर्शन ने और भी ऊँचाई प्रदान की. यही वह संबल था जिसने कथानायक को कीचड़ में कमलवत रहने की दीक्षा दी. 

इसमें संदेह नहीं कि ‘मुझे कुछ कहना है’ के इस तीसरे खंड में छत्तीसगढ़ के आंचलिक वनवासी जीवन के अँधेरे-उजाले का संघर्ष लेखक के अपने जीवनसंघर्ष के ‘बैकड्रॉप’ के रूप में चित्रित है. ये दोनों संघर्ष एक-दूसरे को उभारकर दिखाते हैं और पाठक आत्मकथा के बहाने अंचलकथा का भी आनंद प्राप्त करता चलता है. 

पुस्तक के प्रकाशन पर लेखक और प्रकाशक को हार्दिक बधाई.