गुरुवार, 1 जून 2017

हिंदी साहित्य को सैयद गुलाम नबी ‘रसलीन’ का प्रदेय

[1]

भारतीय संस्कृति की आत्मा इस देश की विविध भाषाओं के माध्यम से अभिव्यक्ति प्राप्त करती है। भारत की सभी भाषाएँ और उनकी साहित्यिक विरासत सबकी साझी संपदा है और उसे सभी देशवासियों ने समृद्ध किया है, चाहे वे हिंदू हों या मुसलमान या किसी अन्य धर्म-संप्रदाय के अनुयायी। इनमें भी हिंदी अपने केंद्र से बाहर फैलने वाले चरित्र और सर्वसमावेशी स्वरूप के कारण सब को जोड़ने वाली भाषा रही है। इसके साहित्य की समृद्धि में आरंभ से ही मुस्लिम साहित्यकारों का योगदान इसे सबकी साझा विरासत प्रमाणित करता है। दरअसल हिंदी साहित्य को समृद्ध करने में उर्दू, सिंधी, मराठी, गुजराती, तेलुगु आदि भाषाओं के साहित्यकारों का उल्लेखनीय योगदान है। 

हिंदी साहित्य की भूमिका का निर्माण करने में अपभ्रंश साहित्य ने नींव का काम किया। उस अर्थात अपभ्रंश काल में ‘संदेश रासक’ के रचनाकार अद्दाहमाण या अब्दुल रहमान को कौन नहीं जानता। आगे चलकर खुद की ‘हिंदी की तूती’ घोषित करने वाले अमीर खुसरो को तो खड़ी बोली के पहले कवि होने का गौरव हासिल हुआ। उनके बाद मलिक मुहम्मद जायसी, उसमान, कासिमशाह, नूर मुहम्मद, आलम, जमाल, रहीम, सैयद मुबारक अली बिलग्रामी, सैयद गुलाम नबी ‘रसलीन’ आदि अनेक मुस्लिम साहित्यकारों ने हिंदी साहित्य को समृद्ध किया। इनकी रचनाओं में सामासिक संस्कृति, समन्वय की भावना तथा गंगा-जमुनी तहजीब को रेखांकित किया जा सकता है। 

जब कभी मध्यकाल में हिंदी साहित्य को समृद्ध करने वाले मुस्लिम साहित्यकारों की बात होती है तो चर्चा प्रायः जायसी से शुरू होकर रहीम तक आकर सिमट जाती है। ‘रसलीन’ का नाम भर ले लिया जाता है। जबकि वे इससे अधिक के अधिकारी हैं। मैं महज उन्हीं के प्रदेय पर संक्षेप में चर्चा कर रही हूँ। 

[2]
अमिय, हलाहल, मद भरे, सेत स्याम रतनार। 
जियत, मरत, झुकि झुकि परत, जेहि चितवत इक बार॥

कई बार बिहारी का समझ लिया जाने वाला यह दोहा ‘रसलीन’ का है। 

‘अंग दर्पण’ (1737 ई.) और ‘रस प्रबोध’ (1749 ई.) के रचनाकार, ‘रसलीन’ (1689-1750) उपनाम से विख्यात रीतिग्रंथकार का पूरा नाम है सैयद गुलाम नबी ‘रसलीन’। ये जिला हरदोई के बिलग्राम के रहने वाले थे। इनके पिता सैयद मुहम्मद बाकर थे। रसलीन ने स्वयं अपनी वंश परंपरा के बारे में कहा है कि उनके पूर्वज हिंदुस्तान में आकर बस गए थे।[1] रसलीन ने हिंदुस्तान के लिए ‘हिंदुवान’ शब्द का प्रयोग किया है। इस शब्द का प्रयोग चंद्रबरदाई कृत ‘पृथ्वीराज रासो’ के ‘पद्मावती समय’ में भी प्राप्त होता है। 

रसलीन के जन्म के बारे में एक दोहे में संकेत किया गया कि ‘मैं (रसलीन) सूरी के फूल (सूरजमुखी) के समान खिला हूँ और अपनी जन्म तिथि जो मैंने स्वयं कही ‘नूर चश्मे बाकरे अब्दुल हमीदम’ (1111 हिजरी) है।‘[2] इसके अनुसार गणना करके रामनरेश त्रिपाठी ने रसलीन के जन्म का वर्ष सन 1689 ई. माना है।[3]

‘हिंदी साहित्य का बृहत इतिहास (भाग 6)’ से पता चलता है कि रसलीन केवल कवि नहीं थे अपितु वे सुयोग्य सैनिक, तीरंदाज और घुड़सवारी में निपुण व्यक्ति थे। नवाब सफदरजंग की सेवा में थे और उनकी सेना के साथ पठानों से युद्ध करते हुए आगरा के समीप सन 1750 ई. में शहीद हुए। ‘रसलीन ग्रंथावली’ में इस बात का उल्लेख है कि “जीवन यापन के क्षेत्र में अपने कर्म के कारण वे प्रतिष्ठित थे। स्वाभिमान उनका ऐसा था कि किसी के भी सामने वे झुकने वाले नहीं थे। इसीलिए गुरु, ईश्वर, धर्म दूतों, पूर्वजों, संतों आदि की स्तुति एवं प्रशंसा तो उन्होंने की है पर किसी राजा-महाराजा, नवाब या स्वामी की प्रशंसा से अपनी लेखनी का मुख मलीन नहीं किया।“[4]

रसलीन की प्रसिद्ध पुस्तक ‘अंग दर्पण’ में कुल 180 दोहे सम्मिलित हैं। ‘हिंदी साहित्य कोश’ के अनुसार “यद्यपि रसलीन ने इसे ‘ब्रजबानी सीखन रची’ (अर्थात ब्रजभाषा सीखने के लिए रचित) घोषित किया है, पर भाषा और शैली की दृष्टि से यह प्रौढ़ तथा सुकुमार रचना है।“[5] इसमें नायिका के अंगों, आभूषणों, भंगिमाओं, चेष्टाओं आदि का उपमा तथा उत्प्रेक्षा युक्त चमत्कारपूर्ण वर्णन निहित है। 

रसलीन ने 'रस प्रबोध' नामक रस निरूपण ग्रंथ का भी सृजन किया। इसमें कुल 1127 दोहे सम्मिलित हैं जिनमें रस, भाव, नायिकाभेद, षट्ऋतु वर्णन, बारहमासा आदि अनेकानेक प्रसंग निहित हैं। आचार्य रामचंद्र शुक्ल की मान्यता है कि “रसविषय का अपने ढंग का यह छोटा और अच्छा ग्रंथ है।‘[6] रसलीन ने भी स्वयं इस बात पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस छोटी सी पुस्तक को पढ़ने लेने पर रस विषयक जानकारी हेतु किसी अन्य पुस्तक को पढ़ने की आवश्यकता नहीं रहेगी। इस पुस्तक में मुख्य रूप से शृंगार रस और नायिका भेद का विस्तार है। अन्य रसों के संक्षिप्त वर्णन सम्मिलित है। “इनका सिद्ध छंद दोहा है, समस्त ग्रंथ छंद में है, लक्षण हों या उदाहरण।“[7]

रसलीन की दोनों रचनाओं का अध्ययन करने पर यह पता चलता है कि उन्हें भारतीय काव्यशास्त्र की परंपरा और रूढ़ियों की गहरी जानकारी थी। उसकी बारीकियों को आत्मसात करके उन्होंने इन रीतिग्रंथों की रचना की। विभिन्न लक्षणों का उल्लेख करने के बाद उन्होंने जो उदाहरण दिए हैं उनमें भारतीय संस्कृति, इतिहास, लोक और पुराण के संदर्भ निहित हैं जो यह सिद्ध करते हैं कि वे संस्कृत के बड़े विद्वान थे। 

[3]

गंगा जमुनी तहज़ीब 

यह ठीक है कि रसलीन सैयद मुस्लिम थे लेकिन वे संस्कृत भाषा और साहित्य के पंडित थे और उन्होंने जिस प्रकार हिंदी साहित्य को समृद्ध किया उससे यही कहा जा सकता है कि हिंदी किसी धर्म विशेष की भाषा नहीं है बल्कि हिंदुओं और मुसलमानों की साझी विरासत है जिसमें इनकी गंगा-जमुनी तहज़ीब समाई हुई है।

रसलीन ने अपने दोहों में गुरु, ईश्वर, पैगंबर, नबी, पूर्वजों और संतों की स्तुति तो की है लेकिन किसी राजा-महाराजा या नवाब की प्रशंसा नहीं की। बिलग्राम में हिंदू-मुसलमान सभी अपने-अपने धर्म की उपासना करते थे, बिना किसी दबाव के। वे अपने धर्म के साथ-साथ दूसरों के धर्म का सम्मान करते थे। रसलीन सहिष्णु थे। उनके दोहों में मुहम्मद साहब, हजरत अली, इमाम हसन, इमाम हुसैन, मुईनुद्दीन चिश्ती, पीर आदि के साथ-साथ राम, हनुमान, लक्ष्मण, राधा, कृष्ण, पार्वती, सरस्वती, इंद्र आदि के संदर्भ गुंथे हुए हैं। वे कृष्ण की वंशी का वर्णन[8] करते हुए कहते हैं कि वंशी गोपियों को उनके वंश से इस तरह अलग करके उनके प्राण ले लेती है जैसे मछली पकड़ने वाला काँटा मछली को जल से अलग करके उसके प्राण हर लेता है। यह बाँसुरी कृष्ण के अधरों की सुधा का पान करती है लेकिन अपनी ध्वनि के रूप में ऐसा विष उगलती है जो गोपियों को बिलखने के लिए विवश करता है। वंशी माधुरी का प्रभाव इतना सम्मोहक है कि उसके रस में देह और अदेह सभी लीन हो जाते हैं और पशु-पक्षी तक इस प्रकार स्तंभित हो जाते हैं कि मानो किसी ने उन्हें मार ही डाले हो। रसलीन की गोपिका तो यहाँ तक कहती है कि ब्रह्मा ने इस भय से ही शेष नाग को कान नहीं दिए हैं कि कहीं कृष्ण की वंशी की ध्वनि सुनकर वह धरती को अपने सिर से फेंक कर इस ध्वनि पर झूमने न लगे। यह वर्णन इस बात की गवाही देता है कि सैयद गुलाम नबी ‘रसलीन’ श्रीमद्भागवत के दशम स्कंध के उस प्रसंग से भलीभाँति परिचित थे जिसमें मुनि शुकदेव ने राजा परीक्षित को कृष्ण की वंशी के सम्मोहक प्रभाव के बारे में बताया है। अभिप्राय यह है कि रसलीन ने विषय वस्तु और प्रतीकों का चयन भारतीय महाकाव्यों की परंपरा से किया है, फ़ारसी साहित्य से नहीं। इसीलिए उनका साहित्य सही अर्थों में भारतीय संस्कृति का वाहक प्रतीत होता है। 

इसी प्रकार एक और दोहे में रसलीन ने कहा कि भादों के दिन जादव के बिना अर्थात यादवकुल के श्रीकृष्ण के बिना बिताना कठिन है।[9] भयानक रस का उदाहरण देते हुए वे कहते हैं कि रावण के दस मुँह और बीस बाँह हैं, यह सुनकर राम की वानर सेना भयभीत हो गई। अचानक रावण का रूप देखकर वानर सेना धूप की भाँति पीली पड़ गई।[10] इस प्रकार के अनेक उदाहरण प्रस्तुत किए जा सकते हैं जिनमें कवि ने राम और कृष्ण की कथा से जुड़े प्रसंगों का उल्लेख किया है। यह तभी संभव है जब कवि ने इन कथाओं को आत्मसात कर रखा हो। 

रसलीन उदारमना सहिष्णु कवि थे। वे इस्लाम धर्म के अनुयायी थे परंतु किसी भी प्रकार का कट्टरवाद उन्हें छू भी नहीं गया था। रीतिकाल के इस कवि में किसी संत कवि जैसी उदारता दिखाई देती है। वस्तुतः “संत और कवि होने के लिए आदमी होना पहले आवश्यक है, फिर कुछ और। अपने धर्म का सच्चा अनुयायी दूसरे धर्म को गिराता नहीं क्योंकि किसी को उठा कर जो श्रद्धार्जन नहीं कर सकता, वह किसी को गिरा कर स्वयं ऊँचा नहीं उठ सकता।“[11] रसलीन सही अर्थ में मनुष्य थे और अपने धर्म के श्रद्धावान अनुयायी। इसलिए अन्य धर्मों के प्रति वे परम सहिष्णु थे। इस सहिष्णुता को उनके व्यक्तित्व एवं साहित्य में भलीभाँति देखा जा सकता है। 

रसलीन अपने गुरु तुफ़ैल मुहम्मद बिलग्रामी की प्रशस्ति करते हुए उन्हें देवगुरु वृहस्पति का अवतार बताते हैं - “देस बिदेसन के सब पंडित/ सेवत हैं पग सिष्य कहाई।/ आयो है ज्ञान सिखावन को/ सुर को गुरु मानुस रूप बनाई।“[12] इससे न केवल रसलीन के गुरु की महिमा प्रतिष्ठित होती है, अपितु उन्हें बृहस्पति के समान मान कर अपने जिस संस्कार का बोध कवि ने कराया है वह सर्वथा भारतीय है। इस संस्कार ने ही वस्तुतः गंगा-जमुनी तहज़ीब का निर्माण किया है। 

रसलीन संस्कृत काव्यशास्त्र की परंपरा में निष्णात है। उन्होंने आवश्यकतानुसार भरत के नाट्यशास्त्र, केशव की कविप्रिया तथा संस्कृत-हिंदी ग्रंथों के मतों का उल्लेख मात्र ही नहीं किया, अपितु उन पर अपने चिंतनशील विचार भी व्यक्त किए। उनके काव्य की परिधि विस्तृत है। वह केवल शृंगार वर्णन तक सीमित नहीं। बड़ी बात यह है कि उनके काव्य में भारतीयता का समावेश है। इसमें उन्होंने तत्कालीन लोकजीवन की अनुभूतियों को मूर्तित किया है, लोक जीवन में प्रचलित कथाओं, मान्यताओं, अनुभूतियों आदि को उकेरा है। उस युग के व्यक्ति का जीवन इतना जटिल नहीं था जितना आज है। उस समय पीर और शहीद के प्रति आस्था थी तो लोग मंदिर और पाठशाला भी बनवा देते थे। यही कारण है कि रसलीन जहाँ नबी की स्तुति[13] करते हैं वहीं भगीरथी गंगा की भी स्तुति एक हिंदू भक्त की भाँति भारतीय पद्धति के अनुसार करते हुए स्मरण करते हैं कि गंगा विष्णु के पैरों से निकलकर शिव के सीस में जा बसी।[14] इसे पढ़ते समय रहीम का दोहा याद आता है कि “अच्युत चरन तरंगिनी, शिव सिर मालति माल।/ हरि न बनायो सुरसरी, कीजो इंदव भाल।“ 

भारतीय परंपरा में किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले विघ्नविधाता गणपति की स्तुति की जाती है। रसलीन भी ‘रस प्रबोध’ में सोहिल विवाह के प्रसंग में गणपति की आराधना करते हैं – “गनपति आराधि आदि, उत्तम सगुन साधि/ सुभ घरी, धरी लगन।/ गावत गुनीन गायन, मोहत नर नारायन/ इंद्रादिक सुन सुन होत मगन॥“[15] यहाँ गणपति की आराधना, उत्तम शकुन साधना, शुभ घड़ी और शुभ लग्न विचारना और नर-नारायण तथा इंद्रादिक देवों का उल्लेख कवि के भारतीय परंपरा में पगे होने का प्रमाण है। 

‘रसप्रबोध’ की शुरूआत में भी रसलीन मंगलाचरण[16] करते हैं कि अल्लाह - अलह अर्थात अगोचर है, अनादि है, अनंत है नित्य पवित्र सृष्टि करने वाला है, सृष्टिकर्ता है। वह असीम है। वह सर्वत्र व्याप्त है। 

अच्छे कलाकार की पहचान यह है कि वह कभी भी अपनी रचना से पूर्ण संतुष्ट नहीं होता। संतोष का अर्थ जड़ता है जो रचनाकार का अभिमत नहीं। इसीलिए शायद रसलीन अपने भावों को व्यक्त करने के लिए छंदों का आधार लेकर भावचित्रों को उकेरते हैं। उनके पास शब्द भंडार की अक्षय निधि है। वे तत्कालीन भाषाओं – अरबी, फारसी, संस्कृत, रेख्ता के पंडित थे।[17] अतः वे शब्द चयन का ऐसा परिचय देते हैं कि उनके द्वारा चयनित शब्द सहज प्रतीत होते हैं। अन्य रीतिकालीन कवियों की भाँति रसलीन ने भी प्रकृति वर्णन किया है लेकिन इनका प्रकृति चित्रण केवल नदी, पहाड़, जंगल, ग्रह, नक्षत्र आदि तक सीमित न होकर उनके प्रभाव से उत्पन्न परिणाम का भी परिचायक है।[18] साथ ही, उनकी सौंदर्यबोध भारतीय काव्यशास्त्रीय परंपरा के आधार पर विकसित प्रतीत होता है। 

रसलीन के प्रकृति चित्रण में यह स्पष्ट रूप से दिखाई देगा कि कवि ने कहीं कहीं प्रकृति का मानवीकरण किया है तो कहीं प्रकृति को स्वतंत्र रूप में ग्रहण किया है। प्रकृति चित्रण द्वारा सहृदय पाठक को प्रभावित करने के लिए वे प्रकृति के जिन तत्वों को उपमान के रूप में प्रयोग करके भाव तथा रूप विधान को प्रस्तुत करते हैं[19], वह भी भारतीय काव्यशास्त्रीय परंपरा और संस्कृत से चली आ रही सौंदर्य चेतना के अनुरूप है। यह तथ्य भी रसलीन को भारतीय तहज़ीब के उन्नायक के रूप में प्रतिष्ठित करता है। इस तरह के चित्रण के लिए उन्होंने लोक जीवन के अनुभव का सहारा लिया है। सहज आस्था और विश्वास लोक से ही प्राप्त किया जा सकता है। रसलीन के काव्य में लोक पग-पग पर मुखरित है। उदाहरण स्वरूप छ्ट्ठी,[20] पालना,[21] समधिन[22] आदि विषयों पर लिखे गए दोहों की चर्चा की जा सकती है। 

रसलीन ने अपने दोहों के माध्यम से गोपालन की भारतीय संस्कृति को भी दर्शाया है। वे कहते हैं कि आँख या दृष्टि रूपी मथनी से मेरे हृदय रूपी मटकी को मथ करके ग्वालिनी मेरे मन का मक्खन ले गई। और अब शरीर छाछ की तरह हो गया है।[23] गौ-संस्कृति से अनुप्राणित व्यक्ति ही गोकुल-गोपी-गोपाल की लीला का इतना समर्थ सांगरूपक रच सकता है। 

अद्वैत का एक अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत करते हुए रसलीन कहते हैं कि हम दोनों एक हैं। मन से इसे समझो। ‘मान’ के कारण ही ‘भेद’ उत्पन्न होता है। अतः भूलकर भी प्रिय से विमुख नहीं होना चाहिए।[24]

इसके साथ ही रसलीन ऐसे भाषाविद भी हैं कि उनका काव्य लोक मान्यताओं, आस्थाओं और लोकोक्तियों का समुच्चय प्रतीत होता है। उदाहरण के लिए - 

  • आली बानर हाथ मैं परयो नारियर जाइ (बंदर के हाथ में नारियल, ग्लानि लक्षण, उदाहरण, रस प्रबोध, 836) 
  • आली चाटे ओस के कैसे ताप बुझाय (ओस चाटने से प्यास नहीं बुझती; कामवती उदाहरण, रस प्रबोध, 304) 
  • गुरुजन उर दुरजन भये देखन देत न छाहिं (गुरुजनसभीता-असाध्या, रस प्रबोध, 225)
  •  रोग ठानि कै ढीठ तिय निपुन वैद करि ईठि। (पतिवंचिता-लक्षण, रस प्रबोध, 272)
  • तिहि तरुवर दहियत नहीं, रहियत जाकी छांह। (जिस पेड़ की छाया में रहते हैं उसे जलाया नहीं जाता; वियोग शृंगार, भेदोपाय उदहारण, 972) 
निष्कर्षतः कहा जा सकता है कि अपनी काव्य वस्तु, उसमें निहित काव्य प्रेरणा, काव्य रूढ़ियों के पालन तथा काव्यभाषा के गठन आदि विविध दृष्टियों से रसलीन भारतीय लोक, भारतीय सांस्कृतिक परंपरा और भारतीय भाषा संपदा के गहरे पारखी, अध्येता और सर्जक थे। उनकी रचनाएँ यह प्रमाणित करने के लिए अत्यंत प्रबल साक्ष्य देती हैं कि हिंदी भाषा और साहित्य किसी एक धर्म तक सीमित नहीं है बल्कि इसके विकास में सभी धर्मों के मानने वाले रचनाकारों का योगदान रहा है जिसके कारण यह भारतीय गंगा-जमुनी तहज़ीब प्रतीक बन गया है। 

संदर्भ 

[1] प्रगट हुसेनी बासती, बंस जो सकल जहान।/ तामैं सैद अब्दुल फरह, आए मधि हिंदुवान। (रस प्रबोध, कवि कुल कथन), रसलीन ग्रंथावली, पृ. 5 

[2] नूर चश्मे मीर बाकर गुफ्त बामन/ चूँ गुले खुरशीद दर आलम दमीदम/ साल तारीखे तवल्लुद खुद बेगुफ्तम/ नर चश्मे बाकरे अब्दुल हमीद। रसलीन ग्रंथावली, पृ. 55 

[3] (सं) वर्मा, धीरेंद्र. (2007, पुनर्मुद्रण). हिंदी साहित्य कोश, भाग -2. वाराणसी : ज्ञानमंडल लिमिटेड. पृ. 480 

[4] तजि द्वार ईस को नवायो सीस मानुस को।/ पेट ही के काज सब, लाज खोइ बावरे। रसलीन ग्रंथावली, पृ. 303 

[5] वही, पृ. 1 

[6] शुक्ल, रामचंद्र. (संवत 2042 वि., इक्कीसवाँ पुनर्मुद्रण). हिंदी साहित्य का इतिहास. काशी : नागरी प्रचारिणी सभा. पृ. 197 

[7] (सं) वर्मा, धीरेंद्र. (2007, पुनर्मुद्रण). हिंदी साहित्य कोश, भाग -2. वाराणसी : ज्ञानमंडल लिमिटेड. पृ. 477 

[8] बंसी ह्वै छुड़ावत है, बंस तैं न रीत कछू,/ बंसी सम लेत प्रान मीन को निकारि के./ अधर सुधा में लग उगलत हैं बिख एतो,/ अद्भुत भयो है यह जगत निहारि के./ मोहै मन देव औ, अदेव रसलीन जब,/ पसु पंछी थके मानो, डारि दई मारि के./ यातें बिधि मेरे जान, सेस कों न दीन्हों कान,/ सेस तन तान दीन्हों, धरती को डारि के। (रस प्रबोध, 98) 

[9] भादों के दिन कठिन बिन जादव मोहि बेहाइ।/ तापै छनदा की तड़ित छिन छिन दागति आइ। (रस प्रबोध, 1033) 

[10] रावण के हैं दस बदन, और बीस हैं बाँह।/ यह सुनि कै हिय मै, कछू भयो राम दल माँह॥ रसलीन ग्रंथावली, पृ. 242 

[11] रसलीन ग्रंथावली, पृ. 61 

[12] रसलीन ग्रंथावली, पृ. 56 

[13] नूर इलाह तें अव्वल नूर मुहम्मद को प्रगट्यो सुभ आई।/ पाछें भये तिहुंलोक जहाँ लग ऊसब सृष्टि जो दृष्टि दिखाई।/ आदि दलील को अंत की है रसलीन जो बात भई पुनि पाई।/ तौ लौं न पावै इलाही कों कैसेहूं जौ लौं मुहम्मद में न समाई। (रसलीन, फुटकल कवित्त और स्फुट दोहे) 

[14] बिस्नु जू के पग तें निकसि संभु सीस बसि,/ भगीरथ तप तें कृपा करी जहाँ पैं।/ पतिततन तारिबे की रीति तेरी एरी गंग,/ पाइ रसलीन इन्ह तेरेई प्रमाण पैं।/ कालिमा कलिंदी सुरसती अरुनाई दाऊ,/ मेटि-मेटि कीन्हैं सेत आपने विधान पैं।/ त्यों ही तमोगुन रजोगुन सब जगत के,/ करिके सतोगुन चढ़ावत बिमान पैं॥ (रसलीन, फुटकल कवित्त और स्फुट दोहे) 

[15] रस प्रबोध, 87 

[16] अलह नाम छबि देत यौं ग्रंथन के सिर आइ।/ ज्यों राजन के मुकुट तें अति सोभा सरसाइ।/ अलख अनादि अनंत नित पावन प्रभु करतार।/ जग को सिरजनहार अरु दाता सुखद अपार।/ रम्यौ सबनि मैं अरु रह्यौ न्योरा आपु बनाइ।/ याते चकित भये सबै लह्यौ न काहू जाइ।/ जब काहू नहिं लहि पायो कीन्हौं कोटि विचार।/ तब याहि गुन ते धर्यौ अलह नाम संसार। (रस प्रबोध, 4) 

[17] रसलीन ग्रंथावली, पृ. 85 

[18] री दामिनी घनस्याम मिली कत मो सनमुख आइ।/ हनन लगी है सौति लौं अपनो चटक दिखाइ॥ (रसलीन ग्रंथावली, कविता भाग, पृ. 192) 

[19] सागर दच्छिन दुहुन की सम बरनत हैं प्रीति।/ वह नदियन यह तियन सो मिलात एक ही रीति॥ (रसलीन ग्रंथवाली, कविता भाग, पृ. 102) 

[20] आज छठी की रात रहस रहस सब आन जगायो।/ रंग उपजायो धूम मचायो आपने चाव मेन मंगल गायों॥ (रसलीन, फुटकल कवित्त और स्फुट दोहे, 94) 

[21] यह लछमन घर आये।/ रहस रहस सब मिली गावौ आनंद बढ़ाये॥ (वही, 92) 

[22] लाज भरी समधिन सुनि के अति समधि के मन भाए,/ रहस खेल रस रेल करन कों सुभ दिन न्योत बुलाए। (वही, 89) 

[23] आप ही लाग लगाइ दृग फिरे रोवति यहि भाइ।/ जैसे आगि लगाइ कोउ जल छिरकत है आइ।। (रस प्रबोध, वियोग शृंगार, 957)/ हिये मटुकिया माहि मथि दीठि रई सो ग्वारि।/ मो मन माखन लै गई देह दही सो डारि॥ (रस प्रबोध, वियोग शृंगार, 958) 

[24] हम तुम दाऊ एक हैं समुझि लेहु मन माँहि।/ मान भेद को मूल है भूलि कीजिये नाहि॥ (रस प्रबोध, वियोग शृंगार, सामोपाय उदाहरण, 968) 

1 टिप्पणी:

iBlogger ने कहा…

यदि आप कहानियां भी लिख रहें है तो आप प्राची डिजिटल पब्लिकेशन द्वारा जल्द ही प्रकाशित होने वाली ई-बुक "पंखुड़ियाँ" (24 लेखक और 24 कहानियाँ) के लिए आमंत्रित है। यह ई-बुक अन्तराष्ट्रीय व राष्ट्रीय दोनों प्लेटफार्म पर ऑनलाईन बिक्री के लिए उपलब्ध कराई जायेगी। इस ई-बुक में आप लेखक की भूमिका के अतिरिक्त इस ई-बुक की आय के हिस्सेदार भी रहेंगे। हमें अपनी अप्रकाशित एवं मौलिक कहानी ई-मेल prachidigital5@gmail.com पर 31 अगस्त तक भेज सकतीं है। नियमों एवं पूरी जानकारी के लिए https://goo.gl/ZnmRkM पर विजिट करें।