मंगलवार, 13 सितंबर 2011

प्रतिष्‍ठित कवयित्री डॉ.कविता वाचक्नवी की हिंदी कविताओं का तमिल अनुवाद




प्रतिष्‍ठित कवयित्री डॉ.कविता वाचक्नवी की निम्नलिखित तीन हिंदी कविताओं का तमिल अनुवाद 

  • साधना (अनु. साधनै)
  • गौरैया (अनु. अन्ना पिरवै)
  • अभ्यास (अनु. पयिर्चि)
हिंदी कविता 
साधना 

एक मछली सुनहरी
ताल के तल पर ठहरी
ताकती रही रात भर
दूर चमकते तारे को.


ब्राह्‍ममुहूर्त में 
गिरी एक ओस बूँद
गिरा तारे का आँसू
मछली के मुँह में 
पुखराज बन गया.


तमिल अनुवाद
साधनै

ओरु तंग निरमुल्ला मीनु
इरैवेल्लाम मिन मिनिक्कुम नक्षत्तिरत्तै
ओयामल पार्तुकोंड्रु
कोलत्तोरमा निंड्रदु.


ब्राह्‍ममुहूर्तत्तिल
वानत्तिलंदु ओरु पनि तुलि विलुंददु
नक्षत्तिरत्तिन कन्नीर 
मीनिन वाइल पुगुंदु
पुष्यरागामाइ मारिनदु.


हिंदी कविता
गौरैया

धूप के मुहाने पर
पाँव रख 
छोटी - सी गौरैया एक
खड़ी हो जाती है.
धूप समझती 
चिड़िया के पंखों का विस्तार भी
समेट लिया मैंने
और सोचती है चिड़िया
रोक सकती हूँ धूप
मैं अभी
ठहर जाऊँ यदि - तब भी
डरती है धूप 
मेरी छाया तक से भी.


तमिल अनुवाद
अन्ना पिरवै

वेइलिन वासलिले
काल वैइत्तु 
निक्कुम
ओरु अन्ना पिरवै.
वेइलिन योसनै इदु - 
अन्ना पिरवैइन रेक्खैगलै
नान इरिक्कि अनैत्तुकोल्वेन
आनाल अन्ना पिरवैइन सिंधनै इदु - 
इंद वेइलै निरुत्तिविडुवेन
नान इप्पोलुदे 
निरिंदिविट्टालुम - 
वेइल भयंदिविडुम
एन निललै पार्तु.


हिंदी कविता
अभ्यास

भोर का 
चिड़ियों की चह्‌ - चह्‌ का
जिन्हें अभ्यास हो
रात्रि का निर्जन अकेलापन
उन्हें
कैसे रुचे ?


तमिल अनुवाद
पयिर्चि

पोलुदु विडिंददुम
परवैगलिन ची... ची... नादत्तुडन
विलयाडुम मनिदनुक्कु
रात्रियिन निशब्द तनिमै
अवर्गलक्कु
रुचुक्कुमा ? 








3 टिप्‍पणियां:

अरूण साथी ने कहा…

सार्थक और सशक्त कविताऐं।
आभार।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

भावपूर्ण सुन्दर कविताएं ...

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

ऐसे ही कुछ कदम देश की सभी भारतीय भाषाओं को जोड़ सकते हैं।