रविवार, 12 मई 2013

लू चल रही है

हवा गरम है
तन भी
मन भी.

तरस रही हैं आँखें -
तुम आते क्यों नहीं?

मन मचल रहा है -
कहाँ रह गए मीत?

1 टिप्पणी:

Madan Saxena ने कहा…

simply superb. Plz visit my blogs.