सोमवार, 6 फ़रवरी 2023

वस्तुनिष्ठ प्रश्न : हिंदी साहित्य का इतिहास



1. ‘उत्तर अपभ्रंश ही पुरानी हिंदी है’ – यह किसका मत है?

      चंद्रधर शर्मा गुलेरी ने उत्तर अपभ्रंश ही पुरानी हिंदी है।  उन्होंने 'राजा मुंज' को पुरानी हिंदी का प्रथम कवि स्वीकार किया।  

2. आदिकाल के प्रथम कवि कौन हैं?

      सरहपाद 

3. राहुल सांकृत्यायन ने हिंदी के प्रथम कवि किसे माना?

      सरहपा 

4. ‘पउम चरिउ’ के रचनाकार कौन हैं?

      स्वयंभू

5. ‘आल्हाखंड’ के रचयिता कौन हैं?

     जगनिक

6. आदिकाल को ‘वीरगाथा काल’ नाम किसने दिया?

     रामचंद्र शुक्ल

7. ‘चारण काल’ का दूसरा नाम क्या है?

     आदिकाल

8. आदिकाल को ‘बीजवपन काल’ किसने माना?

     महावीर प्रसाद द्विवेदी

9. प्रथम काल का नामकरण ‘आदिकाल’ किसने किया?

     हजारी प्रसाद द्विवेदी ने साहित्यिक प्रवृत्तियों के आधार पर इसे आदिकाल कहा

10. हिंदी साहित्य के इतिहास को ‘संधि काल एवं चारण काल’ किसने कहा?

     डॉ. रामकुमार वर्मा

11. आचार्य शुक्ल ने किस आधार पर प्रथम काल को वीरगाथा काल कहा?

      ऐतिहासिक सामाजिक वास्तविकता के आधार पर

12. ऐतिहासिकता के आधार पर गरियर्सन ने आदिकाल को क्या कहा?

       चारण काल

13. मिश्रबंधुओं ने आदिकाल को क्या नाम रखा?

       प्रारंभिक काल

14. ‘भरतेश्वर बाहुबली रास’ के रचनाकार कौन हैं?

       शालिभद्र सूरी

15. ‘मैथिल कोकिल’ कौन हैं?

       विद्यापति

16. हिंदी साहित्य के पहले इतिहासकार कौन हैं?

     गार्सां द तासी। ‘इस्त्वार द ल लितरेत्युर ऐंदुई ऐ ऐंदुस्तानी’ नाम से उन्होंने हिंदी साहित्य का पहला इतिहास फ्रेंच में लिखा है।

17. हिंदी में लिखा गया हिंदी साहित्य का प्रथम इतिहास का नाम बताइए।

       शिवसिंह सेंगर कृत ‘शिवसिंह सरोज’

18. अंग्रेजी में लिखा गया हिंदी साहित्य का प्रथम इतिहास का नाम बताइए।

       सर जॉर्ज अब्राहम ग्रियर्सन कृत ‘द मॉडर्न वर्नाक्युलर लिटरेचर ऑफ हिन्दुस्तान’

19. चौरासी सिद्धों में आदि सिद्ध कौन हैं?

       सरहपा

20. भाट और चारण कवियों ने किस साहित्य की रचना की है?

      रासो-साहित्य 

गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023

हिंदी प्रयोग

अंग-अंग : हर अंग। संज्ञा पदबंध. इसका प्रयोग सामान्य रूप से एकवचन में होता है।
(प्रयोग : उसका अंग-अंग दुखने लगा)

अंगारा हो जाना : आवेश या क्रोध के कारण लाल हो जाना। सामान्य रूप से इसका प्रयोग् व्यक्ति या उसके चेहरे या आँख के लिए होता है।
(प्रयोग : देखते ही देखते उसकी आँखें अंगारा हो गईं।)

अंगूठा चूसना : सामान्य रूप से अबोध बच्चों की अंगूठे को मुँह में डालकर चूसते रहने की क्रिया। मुहावरे के रूप में इसका अर्थ है – बचकानी हरकत।
(प्रयोग : तुम्हारे अंगूठा चूसने के दिन गए।)

अंगूठा दिखाना : साफ इनकार करना।
(प्रयोग : आश्रम के चंदा माँगा तो उन्होंने अंगूठा दिखा दिया।)



अंगूठे पर मारना : अत्यंत उपेक्षित समझकर त्याग देना।
(प्रयोग : तुम्हारी पाप की कमाई नहीं चाहिए। ऐसे रकम को तो हम अंगूठे पर मारते हैं।)

अंत हो जाना : समाप्त हो जाना। उन्मूलन हो जाना।
(प्रयोग : उसके जमाने में ही सती प्रथा का अंत हो गया।)

अंदर-ही-अंदर : मन ही मन में
(प्रयोग : वह अंदर-ही-अंदर घुटता रहा।)

अँधेरे में रखना : वस्तुस्थिति से परिचित न होना।
(प्रयोग : मझे अँधेरे में रखा गया।)

आँखों के आगे अंधकार छा जाना : निराशापूर्ण स्थिति
(प्रयोग : मेरे आँखों के आगे अंधकार छा गया।)

अंधा बना देना : घमंडी बना देना
(प्रयोग : सत्ता के मैड में वह अंधा बन गया।

अंधे की लकड़ी : एकमात्र सेहरा
(प्रयोग : बुढ़ापे में अपने माता – पिता का सहारा बनकर राम यह सिद्ध कर दिया कि वह अपने माता – पिता के अंधे की लकड़ी है।)

अगर-मगर : बहाना
(प्रयोग : काम करने करने के लिए अगर-मगर न करना।)

मंगलवार, 31 जनवरी 2023

रचनात्मक बाल साहित्य के प्रणेता : दिविक रमेश

हिंदी साहित्य जगत में दिविक रमेश जाना-माना नाम है। उनका जन्म 28 अगस्त, 1946 को दिल्ली में नांगलोई के पास हरियाणा की सीमा पर बसे किराड़ी गाँव में हुआ था। लेकिन स्कूल में प्रवेश के समय जन्म तिथि 6 फरवरी, 1946 दर्ज की गई थी। उनका वास्तविक नाम है रमेश शर्मा। वे अपने बचपन के बारे में याद करते हुए कहते हैं, “मेरा गाँव सचमुच का गाँव होता था - बिना सड़क वाला, बिना बिजली और सरकारी पानी वाला। बस पकड़ने के लिए नांगलोई तक पैदल चलकर आने वाला। चौपाल में या पेड़ों के नीचे प्राइमरी शिक्षा की सुविधा रखने वाला। दूर-दूर तक खेतों-खलिहानों वाला। गाँव के घरों से लगते हुए ही खेत शुरू हो जाते थे। किराड़ और मंगोथर जोहड़-तालाबों वाला। नहर और धान्नों (नहर से खेत तक लाए छोटे नाले) वाला। बाग-बगीचे वाला। कुओं से पानी पिलाने वाला। भूतों वाले कुओं, पीपल और खास स्थानों वाला।” (setumag.com)।

बचपन से माता-पिता से प्राप्त संस्कार और जीवन मूल्यों को दिविक रमेश ने आत्मसात किया। उन्होंने अपने अनुभवों एवं अनुभूतियों को अभिव्यक्त करने के लिए साहित्य को साधन बनाया। कवि, आलोचक और बाल-साहित्यकार के रूप में वे जाने जाते हैं। ‘गेहूँ घर आया है’,‘खुली आँखों में आकाश’, ‘रास्ते के बीच’, ‘छोटा-सा हस्तक्षेप’, ‘हल्दी-चावल और अन्य कविताएँ’, ‘बाँचो लिखी इबारत’, ‘वह भी आदमी तो होता है और फूल तब भी खिला होता’, ‘माँ गाँव में है’, ‘वहाँ पानी नहीं है’ उनके प्रमुख काव्य संग्रह हैं तो ‘खंड-खंड अग्नि’ काव्य नाटक है। ‘नए कवियों के काव्य-शिल्प सिद्धांत’, ‘संवाद भी विवाद भी’, ‘कविता के बीच से’, ‘साक्षात त्रिलोचन’, ‘समझा-परखा’ तथा ‘हिंदी बाल-साहित्य : कुछ पड़ाव’ प्रमुख आलोचना कृतियाँ हैं। ‘101 बाल कविताएँ’, ‘समझदार हाथी : समझदार चींटी’, ‘बंदर मामा’, ‘हँसे जानवर हो हो हो’, ‘कबूतरों की रेल’, ‘बोलती डिबिया’, ‘देशभक्त डाकू’, ‘बादलों के दरवाजे’, ‘शेर की पीठ पर’, ‘ओह पापा’, ‘गोपाल भांड के किस्से’, ‘त से तेनालीराम, ब से बीरबल’, ‘बल्लूहाथी का बालघर’, ‘मुसीबत की हार’, ‘मैं हूँ दोस्त तुम्हारी कविता’, ‘लू लू की सनक’, ‘मेरे मन की बाल कहानियाँ’, ‘फूल भी फल भी’ आदि बाल साहित्य है। बाल कविताओं को ‘101 बाल कविताएँ’ शीर्षक से संग्रहीत किया गया है। ‘बचपन की शरारत’ उनकी संपूर्ण गद्य रचनाओं का संग्रह है।

समकालीन कविता के क्षेत्र में दिविक रमेश का अपना एक विशिष्ट स्थान है। उनके बाल साहित्य में भी समकालीन भावबोध को देखा जा सकता है। दिविक रमेश के संबंध में नामवर सिंह कहते हैं कि “दिविक रमेश हिंदी के वरिष्ठ कवियों - शमशेर बहादुर सिंह और त्रिलोचन, दोनों के निकट संपर्क में रहे और एक तरह से इन दोनों कवियों से उन्होंने कविता की दीक्षा ली। यही कारण है कि इनकी कविताओं पर शमशेर जी की नफासत और भाषा की कीनियागीरी का असर पड़ा है।” (सिंह : 2021)

एक रचनाकार कभी-कभी अपने विशेष नाम के कारण प्रसिद्धि और प्रतिष्ठा पा जाते हैं। रमेश शर्मा दिविक रमेश कब और कैसे बने इस पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने स्वयं कहा है कि “इतना भर तो बता ही दूँ कि उस समय के एक बहुत ही सक्रिय रचनाकार सुखबीर सिंह ने अपने संपादन में एक कविता-संकलन ‘दिविक’ (दिल्ली विश्वविद्यालयी कविता में आए प्रथम तीन अक्षर) निकाला था जिसमें मेरी कविताएँ रमेश शर्मा के नाम से प्रकाशित हुई थीं। कुछ समय बाद सुखबीर सिंह ने मुझे भी संपादक के रूप में जोड़ते हुए ‘दूसरा दिविक’ निकाला था और अब मैं दिविक रमेश बन चुका था। यहाँ ‘क’ कवि के लिए अपना लिया गया था। या समझा जा सकता है - दिविक का रमेश। यह शब्द कोश में तो उपलब्ध है नहीं, यूँ इसका अर्थ निकाला जा सकता है।” (रमेश : 2016आ : 97)

दिविक रमेश भले ही दिल्ली जैसे शहर में बस चुके हैं, लेकिन वे अपनी जड़ों से जुड़े हुए साहित्यकार हैं। उनकी यादों में तथा उनकी रचनाओं में गाँव बसा हुआ है। इसीलिए नामवर सिंह यह कहने में नहीं हिचकते कि “एक कौरवी जनपद का आदमी, जिसके भीतर दिल्ली शहर में रहते हुए सहसा गाँव जाग गया तो अपने गाँव के शब्द, गाँव की शब्दावली की अनुभूतियाँ - उन चीजों को कविता में नए सिरे से प्रकट करने का विश्वास आया।” (सिंह : 2021)। नामवर सिंह इसे प्रौढ़ता का लक्षण मानते हैं।

इसमें दो राय नहीं कि दिविक रमेश समकालीन कवि और आलोचक हैं, परंतु इस आलेख में उनके बाल साहित्यकार के रूप पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है, क्योंकि बाल साहित्यकार के रूप में उन्होंने अपनी एक निजी पहचान बनाई है।

बड़े, बच्चों को बच्चे समझकर उपदेश देने का कार्य करते हैं। लेकिन आजकल के बच्चे इंटरनेट और सोशल मीडिया के कारण जागरूक हो चुके हैं। पर बड़े, बच्चों से बात करते समय ‘प्रिमिटिव’ ही रहते हैं। पुरानी मान्यताओं और रीतियों को आसानी से छोड़ नहीं सकते। अतः बचपन से ही बच्चों को उपदेश की घुट्टी पिलाना शुरू कर देते हैं। लेकिन इस बात से मुँह नहीं मोड़ा जा सकता कि बड़ों से ज्यादा बच्चों का ‘एक्सपोजर’ विस्तृत है। बच्चे अपने अनुभवों से स्वयं सीखना चाहते हैं।

कोरोना के कारण शिक्षा व्यवस्था में भी बदलाव आया। घर बैठे-बैठे संसाधनों के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हुई। स्कूल ही घर आ चुका है। ऐसे में यह हमारी नैतिक जिम्मेदारी बन जाती है कि बच्चों को क्या सूचना दी जाए और क्या नहीं। यह पहले बड़ों को समझ लेना चाहिए। सूचना प्रौद्योगिकी ने अनेक द्वार खोल दिए हैं। आज के बच्चे सिर्फ मुद्रित बाल साहित्य पर निर्भर नहीं हैं, बल्कि यूट्यूब और अनेक वेबसाइटों पर प्रकाशित एनीमेशन और बाल साहित्य से भी परिचित हो रहे हैं। उन्हें यदि रोचक न लगे तो वे देखेंगे नहीं और उस साहित्य को पढ़ेंगे भी नहीं।

बाल साहित्य में रोचकता और गुणवत्ता का होना अनिवार्य है। यह भी ध्यान देने की बात है कि बाल साहित्य में सिर्फ मनोरंजन और काल्पनिकता का ही समावेश न हो। बच्चों को सामाजिक तथ्यों से अवगत कराना भी जरूरी है। आज के बच्चों को परी-लोक नहीं, बल्कि यथार्थ दुनिया से रू-ब-रू कराना होगा। आज के समय में जहाँ बच्चों का एक्सपोजर विस्तृत है, वहाँ बाल साहित्यकारों के समक्ष यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि, बाल साहित्य की विषय वस्तु की परिधि क्या होनी चाहिए? क्या हम आज की पीढ़ी को वही घिसी पिटी कहानियाँ ही सुनाएँगे? नहीं, यह नहीं हो सकता। हमें यह देखना होगा कि कहानी कितनी रोचक है और बच्चों को तथ्यों से परिचित कराने में कितनी सफल। इसे छोड़कर यदि उसमें यथार्थ को ही ढूँढ़ते रहेंगे और सिद्धांतों को प्रतिपादित करते रहेंगे तो वह बाल साहित्य न रहकर ‘कुछ और’ बन जाएगा। बच्चे फंतासी को पसंद करते हैं। वे खुद इस बात को तय करेंगे कि उनके लिए कौन सी कहानी सही है और कौन सी नहीं। वे खुद अपने लिए अच्छे और बुरे का मानक तय कर सकते हैं। यह कोई और नहीं कर सकता। आज का बाल साहित्य नटखट परी, चंचल तितली, चालाक लोमड़ी और पोटली बाबा की कहानियों से आगे जा चुका है। अतः बाल साहित्यकारों के समक्ष चुनौती है कि वे आखिर लिखें तो क्या लिखें? बाल साहित्य बाल-मन का व्यापक कैनवास होता है। (महाश्वेता देवी)। बड़ों के लिए लिखना आसान है लेकिन बच्चों के लिए लिखना, उनकी मानसिकता के अनुरूप लिखना कठिन है। यह वास्तव में चुनौती भरा कार्य है। बालसाहित्य लिखने के लिए विशेष प्रतिभा की आवश्यकता होती है, क्योंकि केवल कल्पनाशक्ति के माध्यम से ही बाल साहित्य सृजन संभव है। यहाँ कल्पना का अर्थ यह कदापि नहीं कि बच्चों को हम वास्तविक दुनिया से दूर करके एक काल्पनिक जगत में जीने के लिए विवश करें। कल्पना के माध्यम से बच्चों में सृजनात्मक शक्ति का विकास संभव होता है। बच्चों के मन को आकर्षित करने के साथ-साथ उनकी सृजनात्मक क्षमता को विकसित करना बाल साहित्य का उद्देश्य होना चाहिए। बाल साहित्य के माध्यम से यदि बच्चे प्रेम, सौहार्द, भाईचारा जैसे गुणों को अनायास ही अपनाते हैं तो वह सही अर्थों में बाल साहित्य है। इसका यह अर्थ नहीं कि बाल साहित्य के बहाने हम नीति का ही उपदेश देते रहें। बच्चों में जिज्ञासा प्रवृत्ति सहज ही विद्यमान रहती है। अतः इस प्रवृत्ति को और बढ़ाने का काम करना होगा ताकि बच्चों की सृजनात्मक क्षमता का विकास हो सके। यह दायित्व बाल साहित्य का है। बाल साहित्यकार का है। ऐसे ही दायित्व बोध से युक्त बाल साहित्यकार हैं दिविक रमेश।

दिविक रमेश बाल साहित्य के दो वर्ग मानते हैं - उपयोगी बाल साहित्य और रचनात्मक बाल-साहित्य। जानकारीपूर्ण तथ्यात्मक बाल साहित्य को उपयोगी बाल साहित्य की श्रेणी में रखा जा सकता है जबकि कविता, कहानी, नाटक आदि रचनात्मक बाल साहित्य है। दिविक रमेश रचनात्मक बाल साहित्य को ही मान्यता देते हैं। “बच्चों के लिए रचा गया साहित्य मूलत: बच्चों के आनंद के लिए होता है जिसे वे सहज रूप में अपनाने को अर्थात पढ़्ते चले जाने या सुनते चले जाने को उत्सुक हो जाएँ। वह उन्हें बोझ या ‘घर का काम’ न लगे।” (दिविक रमेश)

बाल साहित्य के माध्यम से बच्चों में मूल्यों की पौध लगाई जा सकती है। उन्हें सुसंस्कृत बनाया जा सकता है। संवेदनशील बनाया जा सकता है। ध्यान देने की बात है कि बाल साहित्य में मूल्यों और संवेदनाओं आदि को थोपा नहीं जाता, बल्कि रचना की बुनावट में ही इस तरह से पिरोया जाता है कि बच्चा खेल-खेल में सीख जाए। उदाहरण के लिए रोटी की महत्ता को दिविक रमेश इन पक्तियों के माध्यम से सहज रूप से समझाते हैं-
मैं बोला -
पर रोटी तुम तो
बड़े काम की चीज़ हो प्यारी।

रोटी बोली -
अक्ल ठिकाने
अब आई है अजी तुम्हारी
मैं धरती की, तुम धरती के
हम दोनों में पक्की यारी। (गपशप-1)

बाल साहित्य सिर्फ और सिर्फ बच्चों का साहित्य नहीं। दिविक रमेश के शब्दों में कहें तो वह ‘सबका साहित्य’ है। “बाल-साहित्य बच्चे से उसके बचपने और उसके अधिकारों को छीनने वाली तमाम ताकतों को सहज रूप से पराजित करता है। उसे एक सहज, अंकुठित, संवेदनशील और उचित मनुष्य बनाने की दिशा में सहजता के साथ खेता है।” (दिविक रमेश)। दिविक रमेश बच्चे को मनुष्यता की साँस समझते हैं। वे इस बात से चिंतित हो उठते हैं कि आज तक बाल साहित्य के नाम पर ‘बालक के लिए साहित्य’ लिखा जाता रहा, बल्कि ‘बालक का साहित्य’ लिखा जाना चाहिए था। आज लिखा भी जा रहा है एक हद तक। बच्चों पर लिखना, बच्चों के लिए लिखना और बच्चों द्वारा लिखना - अलग-अलग चीजें हैं। जब ‘बालक का साहित्य’ लिखा जाता है, तो साहित्यकार को एक बच्चा बनकर सोचना होगा। तभी जाना जा सकता है कि एक बच्चे के लिए क्या चाहिए। उसे महज उपदेश देने से काम नहीं बनता। बनता काम भी बिगड़ सकता है। निःसंदेह बाल साहित्य का सृजन वास्तव में चुनौती है।

बच्चे हमेशा ही कल्पनाशक्ति का भरपूर प्रयोग करते हैं। जब तक उनकी जिज्ञासा शांत नहीं होगी तब तक वे उड़ान भरते रहते हैं। ऐसे ही एक बच्चे की कल्पना को दिविक रमेश ‘कैसे लगते भालू राम!’ शीर्षक कविता में इन शब्दों में उकेरते हैं -
अच्छा, जरा सोचकर देखूँ
कि कैसे लगते भालू राम,
अगर जो होती उनके मुँह पर
चोंच निराली, तोते जैसी।

और जो होती उनके सिर पर,
कलगी प्यारी, मुर्गे जैसी।
अच्छा, जरा सोचकर देखूँ
कैसे लगते यदि दो छोटे
सींग भी उनके सिर पर होते।

कैसे लगते, जो उड़ने को
पंख भी होता, सारस जैसे।
एक चित्र ही अच्छा ऐसा
ज़रा बनाकर उनका देखूँ,
कैसे लगते भालू राम! (रमेश : 2015अ : 62-63)

यह पहले भी कहा चुका है कि बच्चों को उपदेश देने से बनता काम भी बिगड़ सकता है। दिविक रमेश उपदेश नहीं देते बल्कि सहज रूप से बच्चों को घर और रिश्तों के महत्व को समझा देते हैं। वे माँ के रिश्ते को सबसे ऊँचा मानते हैं। ‘हरा मेंढक’ शीर्षक कोरियायी कहानी और कांगो लोककथा पर आधारित ‘माँ का अपमान’ शीर्षक कहानी में उन्होंने इसी बात को उजागर किया है। ‘हरा मेंढक’ कहानी में मेंढक अपनी माँ की एक भी बात सुनता ही नहीं था। हमेशा उल्टा ही करता रहता था। माँ ‘टर्रम-टर्रम’ कहने के लिए कहती तो वह ‘मर्रट-मर्रट’ करता। लेकिन वह क्या करती, आह भरने के अलावा! (रमेश : 2016अ : 252)। ‘माँ का अपमान’ शीर्षक कहानी में छोटा बेटा माँ की हर बात मानता है जबकि बड़ा बेटा “अक्सर अपनी माँ का अपमान करता है। उसे उसी में मजा आता था।” (रमेश : 2016अ : 337)। अंत में उसे माँ की बात न मानने का सजा भी मिल ही जाती है। इसी प्रकार ‘माँ कितनी प्यारी’ शीर्षक कविता का यह अंश भी देखें-
माँ बोली, तू मेरा भालू,
हाथी, बंदर, शेर सभी कुछ,
मैं बोला, माँ इसीलिए तो
मेरा भी तुम ही हो सब कुछ। (रमेश : 2015अ : 114)

‘इनाम’ शीर्षक कहानी में एक पिता अपने ही बेटे को दुख पहुँचाता है, लेकिन बेटा अपने पिता की गलतियों को माफ कर देता है और कहता है, “सब कुछ भूल जाओ बापू। बीती बातों को अब मत दोहराओ। तुम्हारे लिए अब बस यही सजा है कि तुम अब कहीं नहीं जाओगे। हमारे पास रहोगे।” (रमेश : 2016अ : 344)। वस्तुतः बच्चों के विकास में घर-परिवार की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। ‘बल्लू दादा को छुड़ा लिया गया’ शीर्षक कहानी में दिविक रमेश ने मिलजुलकर रहने की शक्ति को दर्शाया है। (रमेश : 2016अ : 74)। उन्होंने ‘घर’ शीर्षक कविता के माध्यम से यह चिंता व्यक्त की है कि जिनके पास घर ही नहीं है वे क्या कर सकते हैं -
पर पापा, इक बात बताओ
नहीं न होता सबका घर।
क्या करते होंगे वे बच्चे
जिनके पास नहीं है घर? (रमेश : 2015अ : 25)

बच्चों की सहज प्रवृत्ति है जिज्ञासा और सबसे घुल-मिल जाना। वे बहुत जल्दी ही नए-नए दोस्त बना लेते हैं। उन्हें ऐसा करना अच्छा भी लगता है। सच्चा दोस्त वही होता है, जो हमें अच्छे-बुरे से अवगत करा सके तथा बुरे वक्त में हमारा साथ निभाए। ऐसे दोस्त बहुत कम मिलते हैं। दोस्ती करना आसान है लेकिन उसे निभाना कठिन है। ‘सच्चा दोस्त’ शीर्षक कहानी भी इसका एक सुंदर उदाहरण है। ‘हर बच्चे को दोस्त बनाएँ’ शीर्षक कविता का यह अंश देखिए जिसमें इस बात को उजागर किया गया है -
हम को तो अच्छा लगता है
सबको दोस्त बनाना जी
माँ कहती आसान नहीं पर
सच्चा दोस्त बनाना जी। (रमेश : 2016अ : 44)

बच्चे इतने निर्मल होते हैं कि आस-पड़ोस के लोगों से रिश्ता जोड़ ही लेते हैं। इसी बात को ‘ताऊ-ताई’ शीर्षक कविता में देख सकते हैं -
मैं पड़ोसी, लेकिन कहता
उनको ताऊ-ताई
कभी न देखी उनमें मैंने
होती कभी लड़ाई। (रमेश : 2009 : 8)

दिविक रमेश लोक व्यवहार की बातें भी बहुत सहज और सरल शब्दों में बताते हैं। वे बच्चों को उपदेश नहीं देते, बल्कि ऐसा तरीका अपनाते हैं कि बच्चे खुद ब खुद समझ लें। ‘गिलहरी ने की मदद भालू की’ (यूक्रेन) शीर्षक कहानी में भालू अपने बड़े शरीर और ताकत के कारण घमंड से इतराता रहता था। लेकिन समय आने पर एक छोटी सी गिलहरी उसकी सहायता करती है। (रेमेश : 2016आ : 315)। जिन्हें हम छोटा, कमजोर और नासमझ समझकर हीन दृष्टि से देखते हैं, वे भी हमारे काम आ सकते हैं। अतः कभी भी किसी की भी निंदा नहीं करनी चाहिए। दिविक रमेश नन्हे बच्चे के मुँह से यह कहलवाते हैं कि एक ऐसे यंत्र का आविष्कार हो जिससे गाली को भी मीठी बातों में बदला जा सके -
गाली को मीठी बातों में
झट बदले, वह यंत्र बनाओ
बुरा-बुरा सब अच्छा कर दे
भैया, ऐसा यंत्र बनाओ।

दिविक रमेश खेल-खेल में प्रेरणात्मक बातें बताते हैं। ‘चतुराई का चमत्कार’ शीर्षक नाटक के माध्यम से वे यह संदेश देते हैं कि चोरी करके पेट पालने से अच्छा है मेहनत करके दो जून रोटी कमाना। (रमेश : 2016आ : 136)। मेहनत की कमाई शक्ति देती है। मेहनत करने से जो पसीना निकलता है, वह दुनिया का सबसे अनमोल रत्न है। ‘बौने के जूते’ (चेकोस्लोवेकिया) शीर्षक कहानी में भी उन्होंने रोचक ढंग से इसी बात को उजागर किया है। (रमेश : 2016आ : 303)

दिविक रमेश बहुत ही सरल शब्दों में खेल-खेल में बच्चों को मूल्य शिक्षा भी देते हैं। उनके द्वारा प्रयुक्त शब्द इतने मधुर और कर्णप्रिय होते हैं कि कहीं भी ऐसा नहीं लगता कि वे उपदेश दे रहे हैं। कविताओं में लय, तुकबंदी का प्रयोग तो होता ही है, शब्दों तथा ध्वनियों की पुनरावृत्ति भी दिविक रमेश के बाल साहित्य में देखी जा सकती है। बाल कविताएँ ही नहीं बल्कि उनकी बाल कहानियाँ और नाटक भी रोचक लगते हैं। सब तरह के मनोभावों को भी वे सहज रूप से अभिव्यक्त करते हैं। चित्रात्मकता उनके बाल साहित्य की विशेषता है। उदाहरण के लिए ‘खरगोश का कलेजा’ (कोरिया) कहानी में वसंत ऋतु का मनोरम चित्रण देखें - “बसंत का समय था। पेड़-पौधे सब खुश थे। छिंयालय फूल (अज़ेलिया) मीठी महक उड़ेल रहे थे। तितलियाँ एक से दूसरे फूल पर मंडरा रही थीं। सुनहरे पीलक पक्षी अपने साथियों को पुकार रहे थे और घर की याद में बुलबुलें दिल को छूने वाला गीत गा रही थीं। अबाबील चहक रही थीं। मानो कह रही हो कि हम गरम दक्षिण से लौट आई हैं। (रमेश : 2016आ : 243)। उत्तरी अमेरिका और कोरिया में पाए जाने वाले अज़ेलिया के फूल के साथ-साथ पीलक पक्षी, बुलबुल, तितली, अबाबील चिड़िया आदि के बारे में रोचक जानकारी दी गई है। इसी वसंत को वे ‘आया वसंत’ शीर्षक कविता के माध्यम से इस तरह चित्रित करते हैं -
हर पौधे को खूब सजाकर
फूलों के झंडे फहराकर
हमें नचाता, हमें झुमाता
गीत गुनगुने हमें सुनाता
आया वसंत, आओ नाचें
प्रेम-भाव की पोथी बाँचें (रमेश : 2015आ : 30)

दिविक रमेश उपदेश नहीं देते पर कहीं न कहीं अपनी कविताओं और कहानियों में सूक्ति के रूप में इस बात को समझा ही देते हैं कि स्वस्थ चरित्र के निर्माण के लिए क्या करना चाहिए। उपर्युक्त कविता में उन्होंने अंत में इस ओर इंगित किया है कि प्रेम-भाव की पोथी पढ़ना चाहिए। यहाँ कबीर का दोहा याद आना स्वाभाविक है - ‘पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय, ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।‘ दिविक रमेश बाल साहित्य के माध्यम से रिश्ते-नातों की महत्ता के साथ-साथ बच्चों को वनस्पति और प्राणी जगत की सूचनाएँ भी देते हैं और चरित्र निर्माण के लिए आवश्यक सीख भी।

दिविक रमेश सृजन कार्य को बहुत महत्व देते हैं। उनकी बेचैनी को उन्हीं के शब्दों में जानना समीचीन होगा। वे कहते हैं, “मुझसे सृजन कभी भी ‘होमवर्क’ की तरह नहीं हुआ। कभी-कभार ऐसा समय भी आया जब मैं महीनों नहीं लिख सका। हालांकि लिखने की बेचैनी बनी रही। लिखा मुझसे तभी गया जब कोई रहस्यमय भीतरी दबाव अपने चरम पर पहुँचा। यह भीतरी रहस्यमय दबाव क्या है मैं नहीं जनता। यह कब क्यों बनता है, मैं नहीं कह सकता। हाँ, इतना जरूर है कि न लिख पाने की स्थिति मेरे लिए बहुत ही व्याकुल कर देने वाली भयावह स्थिति होती है।” (रमेश : 2016इ : 139)। वे यह मानते हैं कि बड़ों के लेखन की अपेक्षा बच्चों के लिए लिखना अधिक प्रतिबद्धता, जिम्मेदारी, निश्छलता, मासूमियत जैसी खूबियों की माँग करता है। इसे बाजारवाद की तरह प्राथमिक रूप से मुनाफे का काम समझ कर नहीं करना चाहिए। बाल साहित्यकार के सामने बाजारवाद के दबाव वाले आज के विपरीत माहौल में न केवल बच्चे के बचपन को बचाए रखने की चुनौती है, बल्कि अपने भीतर के शिशु को भी बचाए रखने की भी बड़ी चुनौती विद्यमान है। कोई भी अपने भीतर के शिशु को तभी बचा सकता है जब वह निरंतर बच्चों के बीच रहकर नए से नए अनुभव को खुले मन से आत्मसात कर सके। दिविक रमेश बाल साहित्य को मानव समाज के लिए अनिवार्य मानते हैं। बाल साहित्य के प्रति उनका विशेष अनुराग और निष्ठा है। इसीलिए वे कहते हैं कि “बाल साहित्य सबके लिए होता है, केवल बच्चों के लिए नहीं। इसे मैं आज के मनुष्य के समाज के लिए अनिवार्य भी मानता हूँ, जैसे की साँस।” (रमेश : 2016आ : 7)। निष्कर्षतः दिविक रमेश के बाल साहित्य में बाल सुलभ मानसिकता को विविध रंगों में देखा जा सकता है।

संदर्भ

1. रमेश, दिविक (2009). खूब ज़ोर से बारिश आई. दिल्ली : सरला
2. रमेश, दिविक (2015 अ). एक सौ एक बाल कविताएँ. दिल्ली : मैट्रिक्स
3. रमेश, दिविक (2015 आ). समझदार हाथी, समझदार चींटी. दिल्ली : ट्राइडेंट
4. रमेश, दिविक (2016 अ). छुट्कुल-मुट्कुल बाल कविताएँ. नई दिल्ली : सस्ता साहित्य मंडल
5. रमेश, दिविक (2016 आ). बचपन की शरारत. दिल्ली : आलेख
6. रमेश, दिविक (2016 इ). यादें महकी जब. नई दिल्ली : किताबवाले
7. सिंह, नामवर (2021). किताबनामा. सं. आशीष त्रिपाठी. नई दिल्ली : राजकमल













रविवार, 29 जनवरी 2023

भारत की एकता की भाषा है हिंदी



भाषा सिर्फ आदान-प्रदान का साधन नहीं है, बल्कि वह प्रयोक्ता समाज की अस्मिता है। भाषा के अभाव में तो हमारा कोई अस्तित्व नहीं है। भाषा ही वह माध्यम है जिसके कारण हम समाज से जुड़ते हैं। हिंदी भाषा ने आज अपना स्वरूप ऐसा बनाया है कि उसे सबको स्वीकारना ही पड़ा। ‘वह एक कोने की खड़ीबोली नहीं है। वह पुरइन के खड़े पत्ते की तरह से पूरे सरोवर में छा जाने वाली भाषा बन गई है।’ (विद्यानिवास मिश्र, साहित्य के सरोकार पृ.154)। भाषा व्यवहार में एकरूपी या समरूपी नहीं होती। भाषा की यह विविधता उसकी सजीवता का लक्षण है। इसी सजीवता का प्रयोग करके रचनाकार अपनी रचना में रंग लाता है।

ध्यान देने की बात है कि हिंदी की शक्ति उसकी जनपदीय भाषाएँ हैं। इनसे हिंदी निरंतर समृद्ध होती रहती है। हिंदी को सींखचों में जकड़कर रखना संभव नहीं है। शुद्धतावादी सिद्धांत काम नहीं करेगा। ‘भाषा की प्रवाहमयता की कीमत चुकाकर शुद्धता की बात’ सोचना मूर्खता है (विद्यानिवास मिश्र)। ऐसी शुद्धता किस काम की जिसमें न कोई प्रवाह है और न ही संप्रेषण। हिंदी में वह शक्ति निहित है जिसके कारण वह अन्य भाषाओं के शब्दों को आत्मसात करती चलती है। इससे हिंदी की अस्मिता विस्तृत होती जा रही है। इतना ही नहीं, हिंदी में वह शक्ति है जो एक भाषा को दूसरी भाषा से और एक प्रांत को दूसरी प्रांत से जोड़ती है। हिंदी की एक सीमा में राजस्थान और पंजाब है तो दूसरी सीमा में बिहार। राजस्थान से बिहार तक के लोग अपने घरों में राजस्थानी, ब्रज, बुन्देली, अवधी, भोजपुरी, मैथिली, मगही आदि क्षेत्रीय भाषाएँ बोलते हैं, लेकिन व्यापक रूप से इनकी मातृभाषा हिंदी है। इन सबकी सामाजिक भाषा हिंदी है। शिक्षा से लेकर कामकाज तक हिंदी में ही होता है। यही विलक्षण बात है।

हिंदी एक ऐसी भाषा है जिसे आसानी से सब समझ सकते हैं। मिथिला का कोई आदमी पंजाब जाए तो उसे पंजाबी समझने में दिक्कत हो सकती है और इसी प्रकार गुजरात का कोई आदमी असम जाए, तो असमिया समझने में दिक्कत हो सकती है और असम के लोगों को गुजराती समझने में, लेकिन हिंदी से काम चला सकते हैं। यह भी ध्यान देने की बात है, जहाँ उद्योग फैलता है, वहाँ अलग भाषा समुदाय के लोग आकर बस जाते हैं। इन सबके बीच व्यवहार की भाषा हिंदी बन सकती है। इसीलिए महात्मा गांधी ने भी हिंदी को अपनाने पर बल दिया था। यह एक ऐसी भाषा है जो दूसरी भाषाओं को भी साथ लेकर चलती है। इसीलिए आजादी से पहले हिंदी को अंतःप्रांतीय संपर्क के लिए प्रयोग करने की बात भी आई। अनेक नेताओं ने इसका समर्थन भी किया। उनमें वे नेता प्रमुख थे, जिनकी मातृभाषा हिंदी नहीं बल्कि बांग्ला थी। ‘हिंदी भारत की एकता की भाषा’ (रामधारी सिंह 'दिनकर') है। यह इस बात से भी प्रमाणित हो जाता है कि भारत में एक भाषा का साहित्य दूसरी भाषा में अनुवाद के माध्यम से आसानी से पहुँच रहा है और यह काम सबसे ज्यादा हिंदी के माध्यम से हो रहा है।

हिंदी प्रचार-प्रसार आंदोलन का अपना एक महत्व है। यह स्वतंत्रता आंदोलन का ही एक प्रमुख अंग रहा। उस समय महात्मा गांधी ने यह महसूस किया कि जब तक देश के सभी नागरिक एक नहीं होंगे, आपस में संप्रेषण स्थापित नहीं करेंगे तथा समाज में व्याप्त विसंगतियों को दूर नहीं करेंगे तब तक आजादी की लड़ाई सफल नहीं हो सकती। समाज की विसंगतियों को दूर करने के लिए उन्होंने अहिंसा और सत्याग्रह का रास्ता अपनाया तो आम जनता के बीच संप्रेषण स्थापित करने के लिए एक ऐसी भाषा को सीखने पर बल दिया जिसे सब आसानी से समझ सकते हैं और बोल सकते हैं। यह भाषा संपूर्ण हिंदुस्तान की भाषा है – ‘हिंदी’। उन्होंने हिंदी का आंदोलन प्रारंभ किया। वस्तुतः वे हिंदी के माध्यम से देशवासियों के बीच सांप्रदायिक सौहार्द कायम करना चाहते थे। गांधी जी से काफी लोग प्रभावित हुए। परिणामस्वरूप हिंदीतर क्षेत्रों में लाखों लोगों ने हिंदी सीखकर हिंदी का परचम फहराया। “हिंदी प्रचार का काम देशभक्ति का ही काम है। हिंदी को हम इसलिए ऊपर उठा रहे हैं कि उसके साथ सभी भाषाओं का उत्थान हो। हिंदी एक प्रतीक है। असल में हमारा उद्देश्य सभी भाषाओं को ऊपर उठाना है, जिससे यह पूरा देश अपनी भाषाओं में सोच सके और सारी मनुष्य-जाति के लिए भारत की परंपरा में जो संदेश निहित है, उसे अपनी भाषाओं में उछाल सके।” (रामधारी सिंह 'दिनकर', संस्कृति, भाषा और राष्ट्र, पृ. 200)।

पड़ने लगती है पीयूष की शिर पर धारा।
हो जाता है रुचिर ज्योति मय लोचन-तारा।
बर बिनोद की लहर हृदय में है लहराती।
कुछ बिजली सी दौड़ सब नसों में है जाती।
आते ही मुख पर अति सुखद जिसका पावन नाम ही।
इक्कीस कोटि-जन-पूजिता हिन्दी भाषा है वही। (अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’)